Logo
July 21 2018 06:47 PM

राष्ट्रमंडल खेल में सभी भारतीय महिला पहलवान जीतेंगी मेडल – किरण गोदारा बिश्नोई

Posted at: Apr 2 , 2018 by Dilersamachar 5506
(अर्जुन अवार्डी कोच कृपाशंकर बिश्नोई की कलम से )
 
दिलेर समाचार, नई दिल्ली। ऑस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में 4 से 15 अप्रेल तक होने वाले राष्ट्रमंडल खेलों के लिए महिला पहलवान इतनी फिट है किस सभी वजन समूह में पदक जीतेगे । यह बात भारत केसरी महिला पहलवान किरण बिश्नोई ने कही, उन्होंने कहा मुझे लग रहा है की जिस हिसाब से हमारी तैयारी है सब गोल्ड मेडल के प्रबल दावेदार हैं । गोल्ड कोस्ट में इस बार इंडिया की महिला पहलवान गोल्ड की बरसात करने वाली हैं ।
राजधानी के साई सेंटर में देश की चुनिंदा रेसलर अपनी तैयारियों को धार दे रही हैं । जिन 6 महिला रेसलर्स ने राष्ट्रमंडल के लिए क्वॉलिफाइ किया है उनमें से एक किरण है । किरन 4 अप्रैल से गोल्ड कोस्ट में शुरू हो रहे राष्ट्रमंडल खेल में देश की ओर से 76 किलोग्राम भारवर्ग में चुनौती पेश    करेंगी । राष्ट्रमंडल खेल में 13 से 15 अप्रेल तक कुश्ती मुकाबले खेले जायेगे | भारतीय कुश्ती दल 6 अप्रेल को नई दिल्ली से गोल्ड कोस्ट के लिए रवाना होगा |
 
किरण ने कहा पिछली बार मुझे गंभीर इंजरी थी । इसलिए मैं राष्ट्रमंडल के ट्रायल में हिस्सा नहीं ले सकी थी । इस बार देश का प्रतिनिधित्व करने का मौका मिला है तो कोई भी कसर अपनी ओर से बाकी नहीं रखूंगी । घुटने की चोट से मैं पूरी तरह उबर चुकी हूं । मेरा पूरा फोकस मेडल जीतने पर है । में खेल के दौरान अपने प्रदर्शन पर ध्यान केद्रित करुगी । कभी-कभी बहुत अनुभवी खिलाड़ी भी हार जाता है तो कभी पहली बार हिस्सा लेने वाला भी चैंपियन बन जाता है । गेम के दौरान अगर मैं अपना सौ फीसदी देने में सफल रही तो मैं पक्का मेडल जीतूंगी । मेरी तरह सबका ध्यान सिर्फ गोल्ड जीतने पर है । सबकी रणनिति यही है कि देश के लिए गोल्ड जीतें । बाकि हमारे कोच और साथी रेसलर्स का अनुभव भी हमें लगातार मिल रहा है । कुल मिलाकर सबके दिमाग में बस पदक जीतने का ख्याल ही है ।
 
आधी तैयारी आपकी तभी हो जाती है जब आप देश की टॉप रेसलर के साथ हर कमजोरी पर बारीकी से काम करती हैं । जो भी कमियां हैं उसको सुधारने के लिए साथी रेसलर भी पूरी मदद कर रहे हैं । लखनऊ में लगे कैंप का बहुत फायदा मिलेगा, क्योंकि तैयारियों को असली धार यहीं से मिली है । में पहली बार किसी बड़ी प्रतियोगिता में देश का प्रतिनिधित्व करने जा रही हूँ मेरे ऊपर किसी तरह का कोई दबाव नहीं है | में किसी भी कीमत पर हम देशवासियों को निराश नहीं कर सकती । इसलिए मेरी तैयारी भी पूरी गोल्ड मेडल के लिहाज से ही चल रही है । जितनी भी क्षमता है मेरे अंदर, मैं उसका पूरा इस्तेमाल करूंगी । सभी की तरह मेरी भी इच्छा है कि मैं देश के लिए मेडल लाऊं और देश का नाम रोशन करूं । 
 
मुझे सिर्फ और सिर्फ जीतना है । मेने बहुत संघर्ष किया है, और इसके लिए मेरे पापा ने हर समय मुझे उत्साहित किया है और मेरे लिए चीजें इसलिए आसान हो गईं क्योंकि मेरे परिवार का सपोर्ट हमेशा मेरे साथ रहा । घरवालों ने कभी भी रेसलिंग को लेकर बंदिश नहीं लगाई । किरण ने बताया की नेशनल केम्प में साथी रेसलर काफी अच्छे हैं । उनके मार्गदर्शन और तैयारियों से मेरी कुश्ती को और बेहतर बना रही हूं । बिल्कुल परिवार की तरह सब एक दूसरे का खयाल रखते हैं । सबसे बड़ी बात उनका अनुभव मेरे बहुत काम आएगा ।

ये भी पढ़े: Race 3 में सलमान का ऐसा रुप जिसे देखकर आप भी कहेंगे वाह भाई जान


Tags:

Related Articles

Popular Posts

Photo Gallery

STAY CONNECTED