A PHP Error was encountered

Severity: Notice

Message: Trying to get property of non-object

Filename: controllers/Home.php

Line Number: 199

Backtrace:

File: /home/arnavpmm/public_html/dilersamachar.com/ai-apps/controllers/Home.php
Line: 199
Function: _error_handler

File: /home/arnavpmm/public_html/dilersamachar.com/index.php
Line: 316
Function: require_once

पेट्रोल-डीजल के दाम ने दिया एक और झटका , जानें आपके शहर का हाल
Logo
September 20 2018 12:00 PM

पेट्रोल-डीजल के दाम ने दिया एक और झटका , जानें आपके शहर का हाल

Posted at: Jun 24 , 2018 by Dilersamachar 5188

 दिलेर समाचार, देश में बढ़े पेट्रोल और डीजल के दामों को कम किया गया है. तेल कंपनियों ने आज करीब 14 पैसे तक की कमी की है. दिल्ली में पेट्रोल के दामों में 11 पैसे की कमी की गई है. जबकि कोलकाता में भी 11, मुंबई में 14 पैसे की कटौती हुई है. वहीं चेन्नई में पेट्रोल के दाम में 12 पैसे प्रति लीटर की कमी गई है.
 


जहां तक डीजल की बात है कि दिल्ली में डीजल के दाम में 10 पैसे की कटौती की गई है. वहीं कोलकाता में 10, मुंबई में 14 पैसे, चेन्नई में 10 पैसे प्रति लीटर की कई की गई है

बता दें कि तीन दिन के ठहराव के बाद 19 जून को भी राजधानी दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 8 पैसा प्रति लीटर कमी की गई थी. दिल्ली में अब एक लीटर पेट्रोल की कीमत 76.27 रुपये हो गई थी. हालांकि डीजल की कीमतों  में कोई बदलाव नहीं किया गया था. 
 


बता दें कि केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने सोमवार को एक लेख पोस्ट किया था. इस लेख में जेटली ने पेट्रोल, डीजल पर उत्पाद शुल्क में कटौती की संभावना को एक तरह से खारिज करते हुये कहा था कि इस तरह का कोई भी कदम नुकसानदायक हो सकता है. इसके साथ ही उन्होंने नागरिकों से कहा कि वे अपने हिस्से के करों का ‘ईमानदारी’ से भुगतान करें, जिससे पेट्रोलियम पदार्थों पर राजस्व के स्रोत के रूप में निर्भरता कम हो सके

 

जेटली ने लिखा, ‘‘सिर्फ वेतनभोगी वर्ग ही अपने हिस्से का कर अदा करता है. जबकि ज्यादातर अन्य लोगों को अपने कर भुगतान के रिकॉर्ड को सुधारने की जरूरत है. यही वजह है कि भारत अभी तक एक कर अनुपालन वाला समाज नहीं बन पाया है.

जेटली ने कहा था, ‘‘मेरी राजनीतिज्ञों और टिप्पणीकारों से अपील है कि गैर-तेल कर श्रेणी में अपवंचना रुकनी चाहिए. यदि लोग ईमानदारी से कर अदा करेंगे तो कराधान के लिए पेट्रोलियम उत्पादों पर निर्भरता को कम किया जा सकेगा. बहरहाल, मध्य से दीर्घावधि में राजकोषीय गणित में कोई भी बदलाव प्रतिकूल साबित हो सकता है.’’ 

 

ये भी पढ़े: महिलाओं में अनिद्रा की समस्या बड़ी


Tags:

Related Articles

Popular Posts

Photo Gallery

STAY CONNECTED