Logo
May 23 2018 05:01 AM

राष्ट्रमंडल खेल:: महिला हैवीवेट कुश्ती में पदक जितने वाली देश की पहली महिला पहलवान बनी किरण बिश्नोई का प्रधानमंत्री ने किया सम्मान |

Posted at: May 1 , 2018 by Dilersamachar 5576

अर्जुन अवार्डी कोच कृपाशंकर बिश्नोई की कलम से |

दिलेर समाचार, हिसार: गोल्ड कोस्ट आस्ट्रेलिया में आयोजित कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत की झोली में दो मेडल डालने वाली हिसार की बेटियों से पीएम और राष्ट्रपति ने मुलाकात की। पीएम नरेंद्र मोदी और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कुश्ती खिलाड़ी किरण गोदारा बिश्नोई और पूजा ढांडा को विशेष रूप से बधाई दी । इस दौरान कॉमनवेल्थ में मेडल जीतने वाले अन्य खिलाड़ियों को भी पीएम और राष्ट्रपति ने शुभकामनाएं दी । हरियाणा के सभी खिलाड़ियों से मिलने के दौरान पीएम काफी उत्साहित नजर आए। उन्होंने मन की बात में भी हरियाणा के खिलाड़ियों को लेकर अपनी बात रखी थी। गौरतलब है कि दस दिवसीय राष्ट्रमंडल खेलों में हरियाणा का दबदबा रहा था। देश के लिए सबसे ज्यादा मेडल हरियाणा के खिलाड़ियों ने ही झटके थे । हिसार की बेटी किरण गोदारा बिश्नोई ने हेवी वेट चैंपियनशिप में पहली बार देश को कांस्य पदक दिलाया था। इसी जीत के साथ उन्होंने एक कीर्तिमान भी स्थापित कर दिया | महिला हैवीवेट में पदक जितने वाली किरण देश की पहली महिला पहलवान बन गई है, इससे पहले, कोई भी भारतीय महिला पहलवान राष्ट्रमंडल खेलों के सुपर हेवीवेट में यह कारनामा नहीं कर पाई |
 
वहीं पूजा ढांडा ने भी बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए रजत पदक अपने नाम किया। इसके बाद दोनों ही महिला पहलवानों का हिसार में भव्य स्वागत किया था। इस जीत पर उनके परिजन गदगद हो गए और उन्होंने मिठाई बाटकर बेटी की जीत का जश्न मनाया। इससे पहले साउथ अफ्रीका में चल रही कॉमनवेल्थ कुश्ती वूमन प्रतियोगिता म 72 किलोग्राम भारवर्ग में किरण गोदारा ने गोल्ड मेडल पर कब्जा किया था, जिसके आधार पर इनका चयन कॉमनवेल्थ के लिए हुआ था। सेक्टर पंद्रह निवासी किरण गोदारा कोच विष्णुदास की देखरेख में पिछले कई सालों से महाबीर स्टेडियम में प्रशिक्षण ले रही हैं। किरण गोदारा अपना आदर्श अपने नाना रामस्वरूप खिचड़ कालीरावणा को मानती हैं जो खुद पहलवान थे और उन्होंने किरण को पहलवानी करने के लिए प्रेरित किया। बुगाना गांव निवासी और वर्तमान में हिसार में रह रही पूजा ढांडा के नाम भी कई बड़ी उपलब्धि रही हैं। वो हिसार के महाबीर स्टेडियम में कोच के पद पर भी कार्यरत है। एक हादसे में चोटिल होने वाली पूजा ढांडा ने लंबे अर्से के बाद वापसी की और देश का मान बढ़ा दिया। किरण की उपलब्धिया 2012 में जूनियर नेशनल कुश्ती चैंपियनशिप में गोल्ड

ये भी पढ़े: धोनी की एक झलक पाने के लिए फैन ने रोकी दी ट्रैफिक की रफ्तार


Tags:

Related Articles

Popular Posts

Photo Gallery

STAY CONNECTED