Logo
April 27 2018 02:39 AM

CWG 2018: कुश्ती में बजरंग पूनिया की स्वर्णिम सफलता, देश को दिलाया 17वां गोल्ड व रेलवे का तीसरा गोल्ड – रेलवे बोर्ड ने दी बधाई

Posted at: Apr 13 , 2018 by Dilersamachar 5579
दिलेर समाचार, नई दिल्ली। ऑस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में चल रहे 21वें राष्ट्रमंडल खेलों में भारतीय पहलवानों की बेहतरीन उपलब्धि पर रेलवे खेल संवर्धन बोर्ड की सचिव रेखा यादव ने बधाई दी है उन्होंने कहा कि रेलवे अपने खिलाड़ियों को सर्वोत्तम अवसर उपलब्ध कराने के लिए प्रयासरत रहता है । रेलवे बोर्ड के एक स्वागत सम्मान कार्यक्रम में राष्ट्रमंडल खेल 2018 में भारतीय भारोत्तोलन खेल की विजेता टीम  के सदस्यों को और पदक विजेताओ को ओवरऑल टीम चैंपिनशिप जितने पर बधाई देते हुए कहा | आगे उन्होंने कहा की आज हमारे पहलवान बजरंग पुनिया (उत्तर रेलवे) ने देश को कुश्ती में तीसरा स्वर्ण पदक दिया | बजरंग ने पुरुषों की 65 किलोग्राम भार वर्ग स्पर्धा के फाइनल में वेल्स के केन चारिग को मात देकर सोना जीता। इससे पहले कल (मध्य रेलवे) के राहुल अवारे ने 57 किलोग्राम कुश्ती में राष्ट्रमंडल खेलों का पहला स्वर्ण पदक जीता था व भारत के स्टार पहलवान सुशील कुमार ने तो नया कीर्तिमान बनाते हुए राष्ट्रमंडल खेलों में लगातार तीसरी बार गोल्ड मेडल जीतकर इतिहास रच दिया सुशील एसा कीर्तिमान करने वाले दुनिया के पहले पहलवान बन गये है, देश व रेलवे के लिए यह गर्व की बात है, महिला कुश्ती में भी उत्तर पश्चिाम रेलवे, बीकानेर मण्डल पर कार्यरत कुमारी किरण गोदारा बिश्नोई ने 76 किलोग्राम में कास्य पदक जीता | 
 
इस मौके पर भारतीय रेलवे के अध्यक्ष रेलवे बोर्ड श्री अश्वनी लोहानी भी उपस्थित थे उन्होंने खिलाडियों को बधाई दी व कहा रेलवे को अपने उन सभी खिलाड़ियों पर गर्व है जिन्होंने राष्ट्रमंडल खेलों में उपलब्धियां हासिल कर देश का मान बढ़ाया है । इसमें कोई दौराय नहीं की रेल मंत्रालय देश में खेलों को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है | ग्लासगो राष्ट्रमंडल खेलों में भारत ने 15 स्वर्ण 30 रजत व 19 कास्य सहित 64 पदक जीते थे जिसमे से 2 स्वर्ण 4 रजत और 3 कास्य सहित 9 पदक रेलवे के खिलाडियों ने जीते थे | लोहानो ने आगे आरएसपीबी की सचिव श्रीमती रेखा यादव की तारीफ़ करते हुए कहा की रेलवे खेल संवर्धन बोर्ड ने इन चार सालो के दौरान खेल और खिलाडियों के छेत्र में बहुत प्रगति की है, जिसमे रेलवे महिला पहलवानों का प्रदर्शन शानदार रहा | उन्होंने कहा 2014 के ग्लासगो राष्ट्रमंडल खेलों की तुलना में हमारे खिलाड़ियों को इस बार गोल्ड कोस्ट में अधिक पदक मिलेगा । गोल्ड कोस्ट से अभी रेलवे के खाते में और भी पदक आयेगे क्युकी रेलवे की ओलंपिक कांस्य पदक विजेता साक्षी मलिक, विनेश फोगाट, सुमित सही कई खिलाडियों के मुकाबला होना अभी बाकी है ।
 
जाने रेखा यादव के बारे में
 
रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड की सचिव है रेखा यादव | उन्होंने वर्ष 2014 ग्लासगो कामनवेल्थ खेलो के दौरान महिला कुश्ती की उल्लेखनीय उपलब्धि देख कहा था कि एसी चेम्पियन महिला पहलवानों को रेल परिवार में नियुक्ति दे कर शामिल किया जाएगा | अर्जुन अवार्डी पहलवान कृपाशंकर बिश्नोई कहते है की उस समय उनके मुँह से निकले यह वाक्य महज मजाक लग रहे थे | मजाक समझने का कारण भी था क्युकी रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड ने महिला पहलवानों को रेलवे में भर्ती हेतु 2003 में सर्कुलर जारी किया था | लेकिन इस बिच कोई भी एसा अधिकारी नहीं आया जो महिला कुश्ती की भारती रेलवे में सुनिश्चित कर सके | ग्लासगो में रेखा यादव ने महिला पहलवानों को जो वचन दिया भारत आते ही उसे पूरा कर दिया | और बहुत जल्दी उसका नतीजा देखने को मिला | रियो ओलंपिक में मेडल का सूखा दूर करने वाली भारतीय रेलवे की साक्षी मलिक के रूप में आपके सामने है | जो कार्य विगत 11 वर्षो से रेलवे का कोई अधिकारी नहीं कर सका वो कार्य इस धाकड़ अधिकारी ने मात्र 11 दिन में कर दिया | आज भारतीय महिला कुश्ती विश्व पटल पर अपना लोहा मनवा रही है | भारतीय महिला कुश्ती मे रेखा यादव  के योगदान को युगों युगों तक याद किया जाएगा | रेलवे की महिला कुश्ती में किरण, साक्षी, विनेश ललिता, सरिता समेत एक दर्जन से भी ज्यादा महिला पहलवान भारतीय रेल परिवार का हिस्सा है | इसका सपूर्ण श्रेय  रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड की सचिव है रेखा यादव को जाता है |

ये भी पढ़े: भारत में लॉन्च किया सोशल नेटवर्क ऐप Hello


Tags:

Related Articles

Popular Posts

Photo Gallery

STAY CONNECTED