Logo
December 18 2018 09:04 PM

इनलो की कहानी सांसद दुष्‍यंत चौटाला का इनेलो से निलंबित

Posted at: Oct 12 , 2018 by Dilersamachar 6112
दिलेर समाचार, अाकाश पार्टी के कुछ सीनियर नेता है जिन्होंने पार्टी पर कब्ज़ा कर रखा है | जिन्होंने पिछले 15 साल ने कोई चुनाव नहीं जीता है और ना कभी भविष्य में उन के जीतने की कोई उम्मीद और वो नहीं चाहते की पार्टी में कोई जनाधार वाला युवा नेता आगे बढे | 
दुष्यंत की वजह से जनाधार वाले और पढ़े लिखे युवाओ को पार्टी में आगे बढ़ने का मौका मिल रहा था तो उन लोगो को ये पसंद नहीं आया | तब इन सब ने एक  साजिस के तहत काम करना सुरु किया  युवाओ को पीछे धकेलने के लिए | 
 
1 ) ये साजिस पिछले 2 साल से चल रही है लेकिन खुल कर सामने अभी आयी है, इस बात की शिकायत कई बार अभय चौटाला से की गयी, परन्तु ये सभी  सीनियर नेता अभय चौटाला को मुखयमंत्री के लिए सपोर्ट कर रहे थे तो उन्होंने एक कान से सुना और दूसरे से निकल दिया | 
 
2 ) जब दुष्यंत चौटाला ने युवा साथियो की आवाज़ को पार्टी के अन्दर उठाना शुरू किया  तो सभी सीनियर नेता एक साथ अभय चौटाला के साथ इकठा हो गए और दुष्यंत चौटाला को भी रास्ते हटाने की साजिस शुरू हो गयी | तब युवाओ ने इन नेताओ का खुल कर सामना करना सुरु कर दिया | 
 
3) इसी साजिस के तहत दुष्यंत चौटाला को पार्टी में कमजोर करने की मुहीम शुरू की गयी जिस के तहत सब से पहले पार्टी के आधिकारिक कार्यकर्मो से दुष्यंत चौटाला का फोटो गायब कर दिया गया | 
 
4) जब दुष्यंत चौटाला के युवा चौपाल सुपर हिट होने लगे और उन में आपार जनसमूह उमड़ने लगा तो इन नेताओ की नींद हराम हो गयी और इन के प्रभाव में अभय चौटाला ने आयोजकों को फ़ोन कर के गाली-गलोच, धमकाना, पार्टी से नीकालने और पद छीन लेने की धमकी  देना शुरू कर दिया और प्रोग्राम कैंसिल करने का दवाब बनाना सुरु कर दिया | ( रवि जाखड़ 9811500003, Raju Dhull 9253850001 , Vishvaveer Kale 9813459017 , Sumit Rana 9812200154 और बाकि साथियो को फ़ोन किया गया )
 
5) फिर भी युवा साथी पीछे नहीं हटे तो युवा इनलो को भंग कर के दुष्यंत चौटाला का साथ देने वाले युवा साथियो के पद छीन लिए गए ( सुमित राणा प्रदेश अध्यक्ष, विशवीर काला डिस्ट्रिक जींद युथ प्रेजिडेंट, किरणपाल यादव  डिस्ट्रिक रेवाड़ी युथ प्रेजिडेंट ,  अमनदीप चावला डिस्ट्रिक करनाल युथ प्रेजिडेंट, बलराज नोच  डिस्ट्रिक कैथल  युथ प्रेजिडेंट, मनोज बंधवाड़ी  डिस्ट्रिक गुडगाँव युथ प्रेजिडेंट, सुरेंद्र धौला डिस्ट्रिक पानीपत युथ प्रेजिडेंट ). 
 
6) जब युवा की नयी कार्यकारणी बनायीं गए तो दुष्यंत चौटाला के विचार लेना भी वाजिब नहीं समझा और अभय चौटाला के चमचो का सब पद बाँट दिए गए | अब अभय चौटाला ने आधी से ज्यादा युवा और पूरी जनरल बॉडी पर कब्ज़ा जमा लिया था | 
 
 
7 ) दुष्यंत चौटाला और दिग्विजय चौटाला के समर्थको में रोष और मायूसी छा गयी | और इसी रोष को  प्रकट करने और अभय सिंह को अपनी ताकत का एहसास करवाने के लिए इनसो के स्थापना दिवस पर ( 5 अगस्त को ) युवाओ ने बढ़ चढ़ कर भाग लिए और आज तक का सब से सफल स्थापना दिवस साबित हुआ | स्थापना दिवस पर दिग्विजय चौटाला ने मंच से जम कर अभय सिंह जिंदाबाद के नारे लगवाई ताकि परिवार की दूरिया कम की जा सके | इस कारन कुछ समय तक पार्टी में शांति बनी रही | 
 
8 ) अभय चौटाला के मन में अभी भी दुष्यंत चौटाला को पार्टी में दर किनार करने की साजिस चल रही थी और उसी साजिस के तहत २ अक्टूबर को गुडगाँव में  INLD’s state executive body meeting में दुष्यंत चौटाला को बोलने का मौका नहीं दिया गया | मीटिंग में अभय सिंह ने 200 प्राइवेट बाउंसर बुला रखे थे ताकि युवा कार्यकर्ता उस का विरोध ना कर सके ( युवा साथी इस बात से अनभिग थे ) जब कुछ युवा साथियो ने दुष्यंत चौटाला को ना बोलने देने का विरोध किया तो बाउंसरो ने उन युवा साथियो के साथ गाली गलोच, मारपीट की और युवा साथियो को उठा कर मीटिंग से बहार फेंक दिया गया | सोशल मीडिया के मध्यम से ये बात जंगल की आग की तरह पूरा हरयाणा के युवा साथियो में फैल गयी और युवाओ में रोष फ़ैल गया की गुंडों के बल पर उन के युवा नेता को दरकिनार किया जा रहा है और आवाज़ उठाने वाले 15 -20 साल से पार्टी में मेहनत कर रहे युवा कार्यकर्ता को कांग्रेसी बता कर गुंडों से पिटाई करवा दी जाती है | युवाओ का दुःख और रोष इस बात से और बढ़ गया की ये सब ओम प्रकाश चौटाला जी की मोजुदगी में हुआ और उन्होंने भी अभय सिंह का साथ दिया और जब एक पदाधिकार Vijay Mandola ने भरी सभा में चौटाला साहब से सवाल किया की वो चुप क्यों है और सांसद साहब को बोलने का मौका क्यों नहीं दिया जा रहा तो चौटाला सभा ने उसे बोलै कांचर के बीज दफा हो जा यहाँ से | 
 
9 ) 7 अक्टूबर को गोहाना जन सभा में भी अभय चौटाला ने लगभाग 5000 कार्यकर्ताओ की ड्यूटी लगा रखी थी ताकि कोई दुष्यंत चौटाला या अजय चौटाला के नारे न लगा सके | और जैसे ही युवा साथियो ने अजय और दुष्यंत चौटाला जिंदाबाद के नारे लगाए अभय सिंह के गुंडों सब को चुप कराने लग गए इसी बात से पंडाल में 4 -5 जगह झड़प हो गयी दुष्यंत और अभय के समर्थको में | कुछ ही देर में ये बात पूरी जनसभा में फ़ैल गयी की अभय सिंह के गुंडे दुष्यंत जिंदाबाद के नारे लगाने से मना कर रहे है | युवा पहले से ही दुखी और रोष में थे, जैसे ही उन को पता चला अजय चौटाला और दुष्यंत चौटाला के नारे लगाने में मन किया जा रहा है उस के बाद तो युवा साथियो ने पूरी जन सभा दुष्यंत और अजय चौटाला के नारो से गुँजा दी | 
 
10 ) अभय चौटाला और उन के साथ रहने वालो को सुनहरी प्लेट में रख कर दुष्यंत चौटाला, दिग्विजय चौटाला और उन के समर्थको को सबक सीखने का मौका मिल गया और इसी के तहत चौटाला साहब पर दवाब बना कर कल  सांसद दुष्‍यंत चौटाला को इनेलो से निलंबित करवा दिया । दुष्‍यंत को कारण बताओ नोटिस भी जारी किया गया है और एक सप्ताह में जवाब देने को कहा गया है। इससे पहले आमप्रकाश चाैटाला ने युवा इनेलो व इनसो की सभ्‍सी इकाइयों को भंग कर दिया था। आेमप्रकाश चौटाला ने अपने पोते और हिसार सांसद दुष्यंत को पार्टी के सभी पदों से भी हटा दिया है।चौटाला ने इनेलो की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में भी बदलाव किया है। साथ ही कई पदाधिकारियों को बाहर का रास्ता दिखा दिया और हिसार व दादरी के जिला प्रधानों को बदल दिया। दोनों जिला प्रधान अजय चौटाला और दुष्यंत चौटाला समर्थक  हैैं। चौटाला खुद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बने रहेंगे।

ये भी पढ़े: ट्रेंडिंग मैसेज के जरिए भेजें शुभकामनाएं


Tags:

Related Articles

Popular Posts

Photo Gallery

STAY CONNECTED