Logo
October 18 2018 01:05 PM

देश के कुछ शहरों में पेट्रोल 83.92 रुपये में और डीज़ल 70.78 रुपये

Posted at: May 17 , 2018 by Dilersamachar 5361

 दिलेर समाचार, नई दिल्ली: राजनीति श्रेय लेने का कारोबार है. जवाबदेही के वक़्त कोई नज़र नहीं आता. एक दौर था जब पेट्रोल के दाम कुछ कम भी हुए मगर कच्चे तेल की अन्तरराष्ट्रीय क़ीमतों के अनुपात में नहीं. चालीस डॉलर प्रति बैरल पर भी लोगों से उतना ही वसूला गया जितना सौ डॉलर प्रति बैरल पर लिया जाता था. मगर बीच-बीच में कुछ पैसे की कमी और कभी-कभी एक से दो रुपये की कमी भी हुई है, जिसका ढिंढोरा पीटा गया. यह पोस्टर उसी दौर का है, जब बीजेपी तेल के दामों में कमी का श्रेय लेती थी.  तब दिल्ली में विधानसभा चुनाव हो रहे थे. कर्नाटक चुनाव के कारण उन्नीस दिनों तक दाम नहीं बढ़ा. चुनाव ख़त्म होते ही तीन दिनों से लगातार दाम बढ़े हैं. कभी पंद्रह पैसे तो कभी पचीस पैसे के हिसाब से. कल दिल्ली में एक लीटर पेट्रोल का दाम 75.06 रुपये प्रति लीटर था. शायद पाँच साल में सबसे अधिक. वैसे जनता को इससे फ़र्क़ नहीं पड़ रहा है फिर भी सरकार ऐसे पोस्टर तो लगा ही सकती थी. मुंबई के लोग तो एक लीटर के लिए 82 रुपये से अधिक दे रहे हैं. 
16 मई को महाराष्ट्र के रत्नागिरी में एक लीटर प्रेट्रोल का भाव 83.92 रुपये था. एक लीटर डीज़ल का दाम था 70.78 रुपये. 1 नवंबर को इसी रत्नागिरी में पेट्रोल 77.34 रुपये प्रति लीटर था और डीज़ल 60.48 रुपये प्रति लीटर.

 

एक नवंबर से पेट्रोल के भाव में 6 रुपये 58 पैसे की वृद्धि हुई है और डीज़ल के भाव में 10 रुपये 30 पैसे की. लुधियाना में 80.48 रुपये प्रति लीटर है. ज़िरकापुर में 80.54 रुपये प्रति लीटर
पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ने का असर सीधे आम लोगों की जेब पर पड़ता है. इससे महंगाई भी बढ़ती है और लोगों को अपनी रोजमर्रा की चीजों के लिए ज्यादा कीमत चुकानी पड़ती है. 

ये भी पढ़े: अपने लाइफ पार्टनर से करेंगे झगड़ा तो गठिया और डायबिटीज लेंगे बदला


Tags:

Related Articles

Popular Posts

Photo Gallery

STAY CONNECTED