Logo
January 18 2019 09:51 AM

बिहार में बेरहम बाढ़ ने नसीब नहीं होने दी दो गज जमीन

Posted at: Aug 22 , 2017 by Dilersamachar 5164

दिलेर समाचार,बिहार के दरभंगा में 15 अगस्त को आये बाढ़ की बेहरमी ऐसी की शवों को जलाने के लिए दो गज जमीन भी नहीं बची. बाढ़ की विभीषिका ऐसी कि पांच दिन बाद भी श्राद्ध कर्म करने के लिए सुखी जगह नहीं है, जिससे सड़क किनारे परिजन क्रिया-कर्म करने की विवश है. 
मामला बिहार में बाढ़ग्रस्त दरभंगा जिले से जुड़ा है. जहां जाले प्रखंड अंतर्गत कमतौल थाना क्षेत्र में बाढ़ का कहर देखने को मिल रहा है. बाढ़ की चपेट में आने से 17 अगस्त को घर गिर गया, जिसमें दबकर ढढ़ीया निवासी परमेश्वर यादव की मृत्यु हो गयी. खिरोई नदी के किनारे श्मसान घाट, जिसे मुक्ति धाम कहा जाता है. अथाह पानी में डूबा था, घर के बाहर सड़क पर पानी की तेज धारा और जलावन की व्यवस्था नहीं हो सकी. जिसके बाद परिजनों ने शव को पानी में बहा दिया. फिर पांच दिन बाद 21 अगस्त को भी घर और दरवाजे पानी में डूबे है. मृतक की पत्नी सोनावती देवी ने बताया कि पानी पार कर सड़क किनारे श्राद्ध कर्म की प्रक्रिया को पूरा करना विवशता है.

ये भी पढ़े: केजरीवाल के आदेश पर उपराज्यपाल ने लगाई शिक्षा के सवाल पे मोहर


Tags:

Related Articles

Popular Posts

Photo Gallery

STAY CONNECTED