Logo
May 23 2018 11:43 PM

फिर एक साथ नजर आएंगे सनी देओल और डिंपल

Posted at: Feb 23 , 2018 by Dilersamachar 5101

दिलेर समाचार, सुभाष शिरढोनकर। सनी देओल का जन्म 19 अक्टूबर 1956 को हुआ था। उनका वास्तविक नाम अजय सिंह देओल है लेकिन उन्हें घर में सनी के नाम से बुलाया जाता था। सनी ने एक्टिंग की पढ़ाई इंग्लैंड के बर्मिंघम के ’द ओल्ड वर्ल्ड थियेटर’ से की थी। जब सनी ने ’बेताब’ (1983) के साथ बॉलीवुड में कदम रखा, तब अपना नाम सनी रखा।

सिल्वर स्क्रीन पर सनी देओल की इमेज एक दिलेर नौजवान की रही है। दमदार कदकाठी और शेर की दहाड़ वाली प्रभावशाली आवाज वाले सनी ने, हिंदी फिल्म जगत में एक्शन रोमांटिक और इमोशनल सभी तरह के किरदार निभाए। सनी की बॉडी शानदार है जिसकी प्रेरणा उन्होंने हॉलीवुड अभिनेता सिल्वेस्टर स्टेलोन से प्राप्त की।

साढे़ तीन दशक लंबे कैरियर में सनी ने एक से बढ़कर एक फिल्में दीं। ’घायल’, ’दामिनी’, ’डर’, ’बॉर्डर’, और ’गदरः एक प्रेमकथा’ जैसी उनकी कुछ फिल्में बॉक्स ऑफिस पर जबर्दस्त हिट रहीं। अपनी फिल्मों के जरिए अपनी एक अलग पहचान बनाने वाले सनी ने इंडस्ट्री में सबसे ऊंचे स्टारडम को छुआ। सनी देओल को ’घायल’ (1990) के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेता और दामिनी (1993) के लिए सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता के राष्ट्रीय पुरस्कार मिल चुके हैं।

2001 में प्रदर्शित अनिल शर्मा द्वारा निर्देशित ’गदरः एक प्रेम कथा’ सनी देओल के कैरियर की सबसे ज्यादा कामयाब फिल्म है। इसके अलावा भी वो अनिल शर्मा के साथ ’द हीरो’, ’अपने’ और ’सिंह साहब द ग्रेट’ जैसी फिल्में कर चुके हैं। अब अनिल शर्मा, सनी को लेकर ’कवच’ बनाने जा रहे हैं।

सनी देओल, एक्टर के साथ एक सफल बिजनेसमैन भी हैं। 1996 में स्थापित ’सनी साउंड स्टूडियो’ और ’एविएट समूह’ का भारत में डॉल्बी डिजिटल साउंड लाने में बड़ा योगदान माना जाता है। सनी भाई बॉबी और डैडी के साथ रेस्टोरेंट की पूरी चेन भी चलाते हैं।

आज बेशक सनी का करियर पहले की तरह नहीं है लेकिन उनकी लोकप्रियता बरकरार है। सनी इस उम्र में भी हीरो के किरदार निभा रहे हैं। हालांकि कुछ लोगों का मानना है कि उनका दौर बीत चुका है लेकिन आज भी उन्हें उसी रूप में याद किया जाता है। सनी देओल के बेटे करण देओल भी बड़े पर्दे पर आने की तैयारी कर चुके हैं। उनकी डेब्यू फिल्म ’पल पल दिल के पास’ की शूटिंग इन दिनों काफी तेजी से चल रही है। इसका निर्देशन खुद सनी कर रहे हैं।

परिवार और पर्सनल लाइफ को हमेशा मीडिया से अलग रखने की कोशिश करते हुए सनी देओल ने अपनी निजी जिंदगी को बेहद निजी रखा। उनकी पत्नी पूजा देओल दूसरी सेलिब्रिटीज की तरह कभी भी मीडिया के सामने नहीं आई। दोनों बहुत कम अवसरों पर साथ नजर आए। सनी देओल बेशक अपनी गुस्सैल और आक्रामक छवि के लिए जाने जाते हैं लेकिन हकीकत में वह बेहद शर्मीले और विनम्र हैं।

सनी देओल के 35 साल के करियर में डिंपल को छोड़कर कभी किसी के साथ उनका नाम नहीं जुड़ा। दूसरी औरतों के साथ रिश्तों को हमेशा गलत मानते रहे हैं लेकिन ’बॉबी’ (1973) के बाद हर किसी की रातों की नींद उड़ा देने वाली, डिंपल कपाडि़या के मोहपाश में जाने से सनी खुद को नहीं बचा सके।

सिद्धांतवादी सनी देओल और डिंपल ने पहली बार 1984 में नासिर हुसैन की ’मंजिल मंजिल’ में एक साथ काम किया। 1985 में राहुल रवेल द्वारा निर्देशित ’अर्जुन’ के दौरान नजदीकिया बढ़ीं। उसके बाद, 1990 में ’आग का गोला’ और 1991 में एन चंद्रा की ’नरसिम्हा’ में दोनों साथ नजर आए। 25 साल पहले 1993 में आई ’गुनाह’ में वो आखिरी बार एक साथ नजर आए थे। इस दौरान सनी को पता ही नहीं चल सका कि वो कब और किस तरह डिंपल के हुस्न और अदाओं के दीवाने हो गये ।

खबर आ रही है कि सनी और डिंपल 25 साल बाद एक बार फिर सिल्वर स्क्रीन शेयर करने जा रहे हैं। दोनों डिंपल के भतीजे करण कपाडि़या की फिल्म में एक बड़े कैमियो में नजर आएंगे। इसका निर्देशन टोनी डिसूजा कर रहे हैं। खबर है कि बेटे की फिल्म पल ’पल दिल के पास’ में भी डिंपल नजर आ सकती हैं लेकिन वह डिंपल की उपस्थिति को फिलहाल रहस्य बनाकर रखना चाहते हैं। 

ये भी पढ़े: देश की तरक्की के लिए किसान की उन्नति जरूरी


Tags:

Related Articles

Popular Posts

Photo Gallery

STAY CONNECTED