Logo
August 21 2018 03:43 AM

आप भी हैरान हो जाएंगे गोल्डन बाबा की गोल्ड कहानी जानकर

Posted at: Nov 29 , 2017 by Dilersamachar 5143

दिलेर समाचार, नई दिल्ली। आखिर क्या वजह है कलयुगी बाबा अमीर होते जा रहे है? आम इंसान से ज्यादा कई बाबाओं के पास धन दौलत मिल जाएगी, हाल ही में ताजा मामला सामने आया था गोल्डन बाबा। जो अपने शरीर को ज्वैलरी से ढक़े हुए धार्मिक आयोजन में दिखाई दिए थे। बाबाओं की इस भीड़ में अपने गोल्डन बाबा का कुछ अलग ही अंदाज है।

बाबा वर्षभर अपना धंधा पानी चलाते है, और श्रावण मास आते ही वैरागी चोले में ऐसा गोल्डन अवतार धारण कर लेते हैं कि देखने वाले देखते रह जाते है। बाबा की उम्र करीब 54 वर्ष, पूरा नाम सुधीर कुमार मक्कड़ उर्फ गोल्डन बाबा, पहचान महंत, पंचदशनाम जूना अखाड़ा, बरेली है। बाबा पूर्वी दिल्ली के पुराने हिस्ट्रीशीटर हैं।

हिस्ट्रीशीट बोले तो थाने में खोला गया बाबा के नाम का वो बही-खाता जिसमें उनके तमाम छोटे-बड़े गुनाहों का पूरा हिसाब-किताब दर्ज हैं, और किसी भी शख्स के नाम पुलिस हिस्ट्रीशीटर तभी तैयार करती है, जब पुलिस को ये यकीन हो जाता है कि यह व्यक्ति सुधर नहीं सकता और यह शख्स के आदतन अपराधी है। यानी पेशेवर गुनहगार और इत्तेफाक से अपने गोल्डन बाबा के साथ भी कुछ ऐसी ही बात है।

सुधीर उर्फ गोल्डन बाबा के खिलाफ अपहरण और फिरौती सहित तरीबन 34 मामले विचाराधीन हैं।  अपहरण के एक मामले में वह अभी भी जमानत पर है। दिल्ली हाईकोर्ट में उस मामले का ट्रायल चल रहा है। इस बीच, सिंहस्थ कुम्भ में मौजूद गोल्डनपुरी महाराज का ताम-झाम आयकर विभाग की नजर में आ गया है।

गौरतलब है कि गोल्डन महाराज को लेकर  दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल को भी उस वक्त भारी आलोचना का सामना करना पड़ा था, जब विधानसभा चुनाव से पूर्व गोल्डन बाबा के साथ उनकी तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो गई थी। दिलचस्प यह है कि करोड़पति बाबा गोल्डन पुरी के ज्यादातर अनुयायी गरीब तबके के लोग हैं। 5 वर्ष में गोल्डन बाबा का चेहरा कई बार बदला। वे 2007 और फिर 2012 में प्रयाग में हुए कुम्भ मेले में भी शामिल रहे हैं। जरायम की दुनिया में बिट्टू भगत उर्फ सुधीर उस वक्त चर्चा में आए जब 2007 में 25 लाख की फिरौती के लिए किए गए अपहरण के मामले में भी उनका नाम सामने आया। दिल्ली पुलिस के मुताबिक, उन पर जबरन धन उगाही के भी आरोप हैं। सिंहस्थ में मौजूद गोल्डन बाबा 11 किलो सोने के गहने पहनते हैं। मप्र पुलिस के जवानों उनकी सुरक्षा में मुस्तैद हैं। दरअसल, बाबा पूर्वी दिल्ली के गांधीनगर इलाके के रहनेवाले हैं, उसी गांधीनगर के जहां कपड़ों का अच्छा काम है और कभी बाबा गांधी नगर के इसी कपड़ा मार्केट की एक मामूली सी दर्जी हुआ करते थे।

ये भी पढ़े: कई पतियों के साथ रहने को मजबूर है यहां की लड़कियां


Tags:

Related Articles

Popular Posts

Photo Gallery

STAY CONNECTED