Logo
June 18 2024 05:11 PM

इलाहाबाद यूनिवर्सिटी जारी करेगी क्यूआरकोड वाली मार्कशीट

Posted at: May 20 , 2024 by Dilersamachar 9461

दिलेर समाचार, प्रयागराज. इलाहाबाद विश्वविद्यालय को एक समय में पूर्व का ऑक्सफोर्ड कहा जाता था. एक जमाने में यह एक मात्र ऐसा विश्वविद्यालय था जो अपनी शिक्षा की वजह से दुनिया भर में मशहूर था. आज भी यहां देश-विदेश के लोग पढ़ने आते हैं. यही सब इसे पूर्व का ऑक्सफोर्ड बनाते हैं. अब इस विश्वविद्यालय की तरफ से एक महत्वपूर्ण फैसला लिया गया है, जिससे वहां अब अंक पत्रों के वेरिफिकेशन के लिए स्कैनिंग की योजना बनाई गई है.

इलाहाबाद विश्वविद्यालय और उससे संबद्ध कॉलेज में सत्र 2024-25 में प्रवेश लेने वाले छात्रों को मिलने वाला सर्टिफिकेट का अब क्यूआर कोड से लैस होगा. इस सर्टिफिकेट में दिए गए क्यूआर कोड को देश-दुनिया के किसी भी कोने से स्कैन कर वेरिफाई किया जा सकता है.

दरअसल, मार्कशीटों के फर्जीवाड़े की खबरें आती रहती हैं. ऐसे विभिन्न विभाग और शिक्षण संस्थान लोगों के मार्कशीट के वेरिफिकेशन के लिए विश्वविद्यालय से परमिशन मांग कर उनकी डिटेल निकालते थे. अब ये काम मार्कशीट को स्कैन करके किया जा सकेगा.

इलाहाबाद विश्वविद्यालय की वाइस चांसलर प्रोफेसर संगीता श्रीवास्तव की अध्यक्षता में हुई बैठक में फैसला लिया गया कि सत्र 2024-25 में प्रवेश लेने वाले छात्रों के अंक पत्र की क्यूआर कोडिंग की जाएगी. इससे इलाहाबाद विश्वविद्यालय और संबद्ध कॉलेजों में पढ़ रहे 40 हजार से अधिक छात्रों को लाभ मिलेगा. एकेडमिक काउंसिल की इस बैठक में समिति की ओर से दिए गए सुझाव को स्वीकार कर फैसला लिया गया.

प्रोफेसर जय कपूर बताती हैं कि क्यूआर कोड के द्वारा सत्यापन करने से मार्कशीट को विश्वविद्यालय से सत्यापित करने में कम समय लगेगा. उन्होंने बताया कि कुछ समय पहले कई फर्जी विश्वविद्यालय और फर्जी मार्कशीट बनाए जाने के मामले लगातार सामने आ रहे थे. दक्षिण भारत में इस तरह के कई फर्जी विश्वविद्यालय देखे गए. इससे क्यूआर कोड वाली मार्कशीट छात्रों को दिए जाने से इस तरह के फर्जीवाड़े पर रोक लगेगी.

ये भी पढ़े: कद्दू जैसी शक्ल लेके वो सबसे खूबसूरत महिला हैं', ऋचा चड्ढा ने किया ऐश्वर्या का सपोर्ट

Related Articles

Popular Posts

Photo Gallery

Images for fb1
fb1

STAY CONNECTED