Logo
December 6 2022 03:56 AM

Baisakhi 2018: जानें क्यों मनाई जाती है बैसाख, ये है कुछ खास बातें

Posted at: Apr 14 , 2018 by Dilersamachar 10094

दिलेर समाचार, नई दिल्ली । बैसाखी पर्व का बड़ा महत्‍व है. यह पंजाब, हरियाणा और आसपास के प्रदेशों का प्रमुख त्‍योहार है. इस दौरान रबी की फसल पककर तैयार हो जाती है. फसल काटने के बाद किसान नए साल का जश्‍न मनाते हैं. यही नहीं बैसाखी के दिन ही 1969 में सिखों के दसवें और अंतिम गुरु गोबिंद सिंह ने खालसा पंथ की स्‍थापना की थी. बैसाखी सिखों के नए साल का पहला दिन है.  इसके अलावा बैसाखी के दिन सूर्य मेष राशि में प्रवेश करता है इसलिए भी इसे त्‍योहार के रूप में मनाया जाता है. अंगरेजी कैलेंडर के अनुसार हर साल अप्रैल में बैसाखी मनाई जाती है. इस बार यह 14 अप्रैल को है.

पंजाब और हरियाणा के अलावा उत्तर भारत में भी बैसाखी के पर्व की बड़ी मान्‍यता है. देश के दूसरे हिस्‍सों में भी बैसाखी को अलग-अलग नामों से मनाया जाता है. बैसाखी एक कृषि पर्व है. पंजाब में जब रबी की फसल पककर तैयार हो जाती है जब बैसाखी मनाई जाती है. वहीं, असम में भी इस दौरान किसान फसल काटकर निश्चिंत हो जाते हैं और त्‍योहान मनाते हैं. असम में इस त्‍योहार को बिहू कहा जाता है. वहीं, बंगाल में भी इसे पोइला बैसाख कहते हैं. पोइला बैसाख बंगालियों का नया साल है. केरल में यह त्‍योहार विशु कहलाता है.  बैसाखी के दिन ही सूर्य मेष राशि में संक्रमण करता है इसलिए इसे मेष संक्रांति भी कहते हैं. 

ये भी पढ़े: ससुराल में नहीं था शौचालय तो महिला ने छोड़ दिया ससुराल

Related Articles

Popular Posts

Photo Gallery

Images for fb1
fb1

STAY CONNECTED