Logo
July 4 2020 01:28 AM

बीजेपी ने भी की नोटा हटाने की मांग तेज

Posted at: Aug 3 , 2017 by Dilersamachar 7299
दिलेर समाचार,राज्यसभा चुनाव में नोटा (नन ऑफ द अवव) के विकल्प पर कांग्रेस के बाद बीजेपी ने भी आपत्ति दर्ज करायी है. बीजेपी नेताओं के एक प्रतिनिधिमंडल ने आज चुनाव आयोग को मेमोरेंडम सौंप कर राज्यसभा चुनाव से नोटा हटाने की मांग की.

ये भी पढ़े: अब महज 2 क्लिक में बुक करें तत्काल टिकट, बाद में करें पेमेंट

दरअसल राज्य सभा चुनाव में नोटा के इस्तेमाल को लेकर कल राज्यसभा में जमकर हंगामा हुआ था. कांग्रेस उम्मीदवार और पार्टी के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल और उनकी पार्टी के तमाम नेताओं ने सवाल भी उठाया था. सरकार ने इस पर जवाब देते हुए कहा था कि चुनाव कराने का अधिकार चुनाव आयोग का है.

क्यों है कांग्रेस को आपत्ति?
सूत्रों के मुताबिक एक के बाद एक गुजरात कांग्रेस के विधायकों के इस्तीफों से परेशान कांग्रेस अपने 44 विधायकों को बेंगलूरु तो ले गयी लेकिन पार्टी को लगता है कि नोटा का विकल्प इसीलिए दिया जा रहा है ताकि जो विधायक टूट नहीं सके वो आखिरकार इस तरह से कांग्रेस नेता अहमद पटेल के पक्ष में वोट ना डालेंकांग्रेस सूत्रों के मुताबिक बीजेपी ये साजिश अहमद पटेल को हराने के लिए कर रही हैकांग्रेस इस मामले को लेकर चुनाव आयोग भी गई.

ये भी पढ़े: गुजरात में बाढ़ से मुश्किल में डेयरी उद्योग, अमूल को 70 करोड़ का नुकसान

क्यों मचा है बवाल?
दरअसल चुनाव आयोग ने गुजरात राज्यसभा चुनाव में नोटा का इस्तेमाल करने का आदेश दिया है. नोटा का मतलब होता है नन ऑफ द एबव यानी विधायको को इनमें से कोई नहीं चुनने का विकल्प होगा.

2013 में सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग को चुनाव में नोटा के इस्तेमाल का आदेश दिया थाइसके बाद यूपीहरियाणा और त्रिपुरा के अलावा तमाम राज्यों जहां वोटिंग की आवश्यकता पड़ी वहां राज्य सभा चुनाव के दौरान नोटा का इस्तेमाल हुआ था. दरअसल राष्ट्रपति औरउपराष्ट्रपति के चुनाव का छोड़के नोटा का ऑप्शन सभी चुनावों में होता है.


Tags:

Related Articles

Popular Posts

Photo Gallery

Images for fb1
fb1

STAY CONNECTED