Logo
December 6 2020 04:03 AM

Rafale पर CAG की रिपोर्ट, कांग्रेस ने किया भाजपा पर पलटवार

Posted at: Sep 24 , 2020 by Dilersamachar 9231

दिलेर समाचार, नई दिल्ली. भारतीय वायुसेना (Indian Airforce) के जंगी विमानों पर एक बार फिर राजनीति शुरू हो गई है. इसी महीने आधिकारिक तौर पर वायुसेना का हिस्सा बने राफेल (Rafale) पर भारत के नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (CAG) की रिपोर्ट के बाद कांग्रेस ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर बड़े आरोप लगाए हैं. कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कैग की रिपोर्ट के हवाले से केंद्र की मोदी सरकार पर निशाना साधा. उन्होंने 'सबसे बड़े डिफेंस डील की क्रोनोलॉजी, अब खुलकर सामने आ रही है. CAG की नई रिपोर्ट स्वीकार करती है कि 'टेक्नॉलॉजी ट्रांसफर' को राफेस ऑफसेट में हटा दिया गया है. पहला 'मेक इन इंडिया' 'मेक इन फ्रांस' बन गया. अब, डीआरडीओ को तकनीकी हस्तांतरण नहीं होगा. लेकिन मोदी जी कहते रहेंगे सब चंगा सीं.'

randeep singh surjewala

कैग की बुधवार को जारी एक रिपोर्ट में यह खुलासा किया गया कि लड़ाकू विमान बनाने वाली फ्रांस की कंपनी दसॉ एविएशन और यूरोप की मिसाइल निर्माता कंपनी एमबीडीए ने 36 राफेल जेट की खरीद से संबंधित सौदे के हिस्से के रूप में भारत को उच्च प्रौद्योगिकी की पेशकश के अपने ऑफसेट दायित्वों को अभी तक पूरा नहीं किया है. दसॉ एविएशन राफेल जेट की विनिर्माता कंपनी है, जबकि एमबीडीए ने विमान के लिये मिसाइल प्रणाली की आपूर्ति की है.

कैग की संसद में पेश रिपोर्ट में भारत की ऑफसेट नीति के प्रभाव की धुंधली तस्वीर पेश की गई है. कैग ने कहा कि उसे विदेशी विक्रेताओं द्वारा भारतीय उद्योगों को उच्च प्रौद्योगिकी हस्तांतरित करने का एक भी मामला नहीं मिला है. रिपोर्ट में यह भी कहा गया कि रक्षा क्षेत्र प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) पाने वाले 63 क्षेत्रों में से 62वें स्थान पर रहा है.

ये भी पढ़े: कृषि बिल के खिलाफ प्रदर्शन के लिए दिल्ली आ रहे किसानों को रोका


Tags:

Related Articles

Popular Posts

Photo Gallery

Images for fb1
fb1

STAY CONNECTED