Logo
November 22 2019 08:04 AM

उम्र बढ़ने के साथ अपने खान पान में परिवर्तन लाइये

Posted at: Jul 12 , 2019 by Dilersamachar 5100

सुनीता गाबा

वृद्धावस्था जीवन का एक ऐसा मोड़ है जिसका सामना हर व्यक्ति को करना पड़ता है। इस अवस्था को निरोगी व स्वस्थ बना कर रखना जहां कुछ हद तक इंसान के अपने हाथों में होता है वहीं कुछ परिस्थितियों पर भी निर्भर करता है। जो अपने हाथों में है, उस पर हमें काफी ध्यान देना चाहिए। इस अवस्था में खान पान पर भी आपका स्वास्थ्य निर्भर करता है। क्या खाया जाए, क्या न खाए जाए, इस बात पर विशेष ध्यान देना चाहिएः-

क्या खायेंः-

 कैल्शियम, विटामिन व प्रोटीन युक्त पौष्टिक भोजन खाना चाहिए जिसमें सभी पोषक तत्व मौजूद हों।

 नमक, चीनी व घी का प्रयोग बहुत सीमित मात्रा में करें।

 हल्का भोजन सुपाच्य होता है, अतः उसी का सेवन करें।

 जो आसानी से चबा कर खाया जा सके, उसी भोजन का सेवन करें।

 ‘कम खाना, स्वस्थ रहना’, इस बात को ध्यान में रखते हुए भूख से कम भोजन खाएं। अधिक भोजन पाचन शक्ति को खराब कर देता है।

 सलाद और फल चबा कर खाने में परेशानी होने पर सलाद और फल कद्दूकस कर के या कभी थोड़े दही में मिलाकर खा सकते हैं।

 नाश्ते में दूध वाला दलिया, नमकीन दलिया, दूध में काॅर्नफ्लेक्स अच्छी तरह भिगोकर नर्म होने पर खा सकते हैं।

 प्रयास करें कि सब्जी भी हल्की ढीली या रसा लिए हुए खायें।

 रात्रि में 7-8 बजे तक अवश्य भोजन कर लें जिससे नींद में और भोजन पचने में कोई परेशानी न हो।

 दिन भर 6 से 8 गिलास पानी पिएं। शाम 7 बजे के बाद पानी की मात्रा कुछ कम कर दें जिससे रात को बार बार मूत्रा त्यागने की परेशानी से बचा जा सके।

 भोजन आराम से बैठ कर शांत और प्रसन्नचित मन से करें।

 सब्जी-दाल का सूप व ताजे फलों का रस सेहत के लिए उत्तम होता है। उसका नियमित सेवन कब्ज दूर करता है।

 दूध यदि ठीक पच जाता है तो दिन में एक बार दूध अवश्य लें। दूध हड्डियों के रख रखाव के लिए उचित होता है।

 स्वयं को अधिक समय तक भूखा न रखें।

क्या न खायेंः-

 डाॅक्टरों ने जो चीज खाने से मना की हो, उसका सेवन न करें।

 चाय, काफी का सेवन कम करें। शराब और धूम्रपान का सेवन बंद कर दें।

 गरिष्ठ व तेज मसालों वाला भोजन न करें।

 खाने में सख्त भोजन न खायें। ऐसा भोजन चबाने और पचाने में तकलीफ देह होता है।

 सूखी ब्रेड, सूखी चपाती आदि न खायें। अचार, पापड़ और मुरब्बे को भोजन का हिस्सा न बनायें। इनके सेवन से नमक और चीनी अनजाने में अधिक चली जायेगी।

 शरीर की शक्ति से अधिक भोजन न करें व न ही शक्ति से अधिक कार्य करें।  

ये भी पढ़े: बरसात में जरूरी है बचाव


Tags:

Related Articles

Popular Posts

Photo Gallery

Images for fb1
fb1

STAY CONNECTED