Logo
September 30 2020 07:59 AM

खतरा बनते जाते कॉस्मेटिक्स

Posted at: Jul 28 , 2020 by Dilersamachar 9141
शिखा चौधरी महिलाएं अपने रूप-रंग को सजाने-संवारने के लिए आजकल खूब सजग रहती हैं। अपनी रंगत निखारने के लिए एवं ज्यादा से ज्यादा जवान दिखने के लिए वे तरह-तरह के सौंदर्य प्रसाधनों का इस्तेमाल करती हैं। इस्तेमाल करने पर ये कॉस्मेटिक्स तुरंत तो अपना नेगेटिव असर नहीं दिखाते लेकिन धीरे धीरे इनका असर त्वचा पर अपने आप नजर आने लगता है। लंबे समय तक इन सौंदर्य प्रसाधनों का प्रयोग करने से ये त्वचा को कांतिहीन बना देते हैं, फिर भी इन कॉस्मेटिक्स का प्रयोग खूब चलन में है। विविध प्रकार के सौंदर्य प्रसाधनों से बाजार भरे पड़े हैं और महिलाएं इन पर पूरी तरह मंत्रामुग्ध हैं। पहले तो दो-चार अच्छी कंपनियां ही अपने सौंदर्य उत्पाद बाजार में उतारती थी लेकिन आजकल अनगिनत कंपनियों के सौंदर्य उत्पाद बाजारों में उपलब्ध हो जाएंगे जिनमें से अपनी पसंद के प्रसाधन चुनना मुश्किल हो जाता है। इतना ही नहीं, कुछ अच्छी कंपनियों के उत्पादों की आड़ में नकली और घटिया कॉस्मेटिक्स भी बाजारों में खूब बिक रहे हैं जिनसे त्वचा को तो खूब हानि पहुंचती ही है, पैसे भी पानी में जाते हैं। एलर्जी आदि की समस्याएं उत्पन्न हो जाती हैं। आपको याद आ जाएगा कि अक्सर छोटी सी बिंदी लगाने से भी वहां खुजली होने लगती है। ये उत्पाद घटिया किस्म के रसायनों को प्रयुक्त करके बनाए जाते हैं जिससे विभिन्न समस्याएं उत्पन्न हो जाती हैं। चेहरे के लिए खतरनाक:- चेहरे का मेकअप शुरू करते हैं फांउडेशन से लेकिन यह भी घातक रसायनों से बना होता है। चेहरे पर इसे लगाने से त्वचा के रोमछिद्र बंद हो जाते हैं। इससे त्वचा कांतिहीन होती जाती है। रोमछिद्र बंद हो जाने के कारण त्वचा को पोषण नहीं मिल पाता। फाउंडेशन के बाद चेहरे पर फेस पाउडर का प्रयोग किया जाता है। यह ऑक्साइड और एसिड का मिक्चर होता है जो त्वचा को धीरे-धीरे नुकसान पहुंचाता है। त्वचा में जलन एवं खुजली होने लगती है। इसका अत्यधिक इस्तेमाल कैंसर भी पैदा कर देता है। चेहरे पर क्रीम का इस्तेमाल आमतौर पर सभी करते हैं। इसमें हानिकारक मरक्यूरिक क्लोराइड होता है जो चेहरे को धीरे-धीरे नीरस बना देता है और उसकी कोशिकाएं मृत होती जाती हैं। आंखों का मेकअप:- आंखों की खूबसूरती बढ़ाने के लिए तरह-तरह के कास्मेटिक्स प्रयोग किये जाते हैं। आइब्रो पेंसिल में लेड मिला होता है जिसके प्रयोग से आंखों की रोशनी पर असर पड़ता है। आईलाइनर के प्रयोग से पलकों के बाल झड़ने लगते हैं। काजल से आंखों से पानी निकलने लगता है। आंखें सूज भी जाती हैं। मस्कारे में भी लेड एवं ग्रेफाइट होता है। आंखों से पानी निकलने लगता है। आंखों के मेकअप से आंखों की रोशनी प्रभावित होती है। बालों के लिए खतरनाक:- विभिन्न प्रकार के शैंपू एवं डाई आजकल बालों को चमकदार बनाने के लिए प्रयोग किये जाते हैं। इनमें हाइड्रोजन पेराऑक्साइड, एसिड, लेड, ग्रेफाइट आदि खतरनाक रसायन मिले होते हैं। इनसे बाल झड़ने लगते हैं। उम्र से पहले सफेद होने लगते हैं। उनमें रूसी हो जाती है, सिर में खुजली होने लगती है। आंखों में भी परेशानी होने लगती है। त्वचा के लिए नुकसानदेह:- त्वचा की रंगत निखारने एवं उसे खूबसूरत बनाने के लिए वैक्सिंग एवं ब्लीचिंग का सहारा लिया जाता है। ये चीजें कुछ समय के लिए आभा देती हैं। इनमें प्रयुक्त किए जाने वाले उत्पाद खतरनाक रसायनों से बने होते हैं। इनसे त्वचा को धीरे-धीरे हानि पहुंचती रहती है। शुरू में इनके प्रयोग से त्वचा गोरी लगती है लेकिन धीरे-धीरे उसका रंग गहरा होने लगता है। त्वचा पर दाने-दाने निकल आते हैं। ब्लीचिंग से त्वचा जल भी सकती है। इससे त्वचा का कैंसर भी हो सकता है। कॉस्मेटिक्स का लंबे समय तक प्रयोग करना हानिकारक है। इनका प्रयोग कभी-कभार करना ही सही रहता है। इससे एक ही प्रकार के रसायन को त्वचा पर जमने की मोहलत नहीं मिलती जो नुकसान पहुंचा सके। इसके अलावा एक ही कंपनी के उत्पाद का प्रयोग भी लंबे समय तक न करें। उसके ब्रांड बदलते रहें। इसके अलावा ध्यान रखें कि जो भी कॉस्मेटिक्स प्रयोग में लाएं, वे अच्छी कंपनी के हों। सोने से पूर्व मेकअप उतार लें। अपने खाने-पीने का पूरा ध्यान रखें। भोजन में हरी साग-सब्जियां, सलाद, दालें, दूध-दही आदि को पर्याप्त मात्रा में शामिल करें। मोटापा बढ़ाने वाली चीजों का सेवन न करें। फिर देखिये आपके शरीर को कम से कम कॉस्मेटिक्स की जरूरत पड़ेगी।

ये भी पढ़े: दिल्ली में अभी नहीं खुलेंगे साप्ताहिक बाजार, फेरीवाले और पटरी दुकानदार फिर शुरू कर सकेंगे कारोबार


Tags:

Related Articles

Popular Posts

Photo Gallery

Images for fb1
fb1

STAY CONNECTED