Logo
October 17 2021 11:39 AM

दिल्ली में मंडरा रहा बिजली संकट का 'खतरा', इन इलाकों में पड़ेगा सबसे ज्याादा असर

Posted at: Oct 10 , 2021 by Dilersamachar 9741

दिलेर समाचार, नई दिल्‍ली. कोयले की कमी के चलते देश के कई राज्‍यों के साथ दिल्ली में बिजली संकट गहराने का खतरा मंडरा (Delhi Power Crisis) रहा है. हालांकि राष्‍ट्रीय राजधानी में इसका नॉर्थ और बाहरी दिल्ली में ज्‍यादा असर पड़ेगा. वहीं, टाटा पावर दिल्‍ली डिस्‍ट्रीब्‍यूशन लिमिटेड (TPDDL) ने उपभोक्‍ताओं को मैसेज भेजकर कहा कि दोपहर दो बजे से शाम 6 बजे के बीच बिजली सप्‍लाई में दिक्‍कत आ सकती है. इसके साथ उसने लोगों से संयम बरतने की अपील की है. जबकि शहर को बिजली की आपूर्ति करने वाले उत्पादन संयंत्रों में कोयले और गैस की उचित व्यवस्था होती रहे इसके लिए दिल्‍ली के सीएम अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) को हस्तक्षेप करने के लिए पत्र लिखा है.

टीपीडीडीएल के सीईओ गणेश श्रीनिवासन ने जानकारी दी कि कोयले का स्टॉक कम होने के चलते दिल्ली को बिजली कटौती का सामना करना पड़ सकता है. दरअसल टाटा पावर दिल्‍ली के कई इलाकों में बिजली सप्‍लाई करता है, लेकिन कोयले की कमी के चलते बिजली उत्पादन कंपनियों से बिजली वितरण करने वाली कंपनियों को पिछले कुछ दिनों से डिमांड की तुलना में कम ही पावर मिल रही है. हालांकि दिल्ली के एक बड़े भाग में बिजली सप्लाई करने वाली कंपनी बीईएसईएस ने अब तक कोई बयान नहीं दिया है.

इस बारे में टाटा पावर के सीनियर अधिकारियों ने कहा कि देश में 70 प्रतिशत बिजली उत्पादन थर्मल पावर से होता है, जिसके लिए कोयले की जरूरत होती है. जबकि कोयला खदानों में बारिश के चलते पानी भर गया है, जिससे थर्मल प्लांटों में पर्याप्त मात्रा में कोयले की सप्लाई नहीं हो रही है. इसी वजह बिजली उत्पादन प्रभावित हो रहा है और बिजली वितरण कंपनियों को डिमांड के अनुसार बिजली नहीं मिल पा रही है. वहीं, पिछले 2-3 दिनों से यह समस्या अधिक है. अगले कुछ दिनों में समस्या का समाधान नहीं होता है, तो रोटेशन के आधार पर बिजली कटौती भी करनी पड़ सकती है.

ये भी पढ़े: देवेंद्र सिंह राणा और एसएस सलाथिया BJP में हुए शामिल

Related Articles

Popular Posts

Photo Gallery

Images for fb1
fb1

STAY CONNECTED