Logo
September 27 2020 11:31 AM

सरकारों पर बोझ बना लॉकडाउन से हुआ दिल्ली मेट्रो का घाटा, केंद्र और केजरीवाल सरकार में टकराव!

Posted at: Aug 9 , 2020 by Dilersamachar 9138

दिलेर समाचार, नई दिल्ली. देश की राजधानी दिल्ली (Delhi) में आम लोगों की लाइफ लाइन कही जाने वाली मेट्रो (Metro) की सेवाएं लाकडाउन (Lockdown) के कारण पिछले पांच महीनों से बंद है. परिचालन बंद होने के कारण मेट्रो पर आर्थिक संकट आ गया है. घाटे की भरपाई व मेट्रो पर लोन को लेकर केन्द्र की नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) और दिल्ली की अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) सरकार के बीच टकराव की स्थिति बनती नजर आ रही है. लॉकडाउन के कारण बनी स्थिति के बाद केन्द्र सरकार से मेट्रो प्रबंधन ने आर्थिक मदद मांगी थी. इस मदद के पीछे लोन का हवाला दिया गया था, लेकिन केंद्र सरकार ने इसे राज्य सरकार की जिम्मेदारी बताते हुए आर्थिक मदद करने से मना कर दिया है. इसके बाद से ही केन्द्र और राज्य सरकारों के बीच टकराव की स्थिति बन रही है.

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा है कि 'मेट्रो को कर्ज से उबारने और घाटे की भरपाई की अकेले की हमारी जिम्मेदारी नहीं है. मेट्रो का किराया बढ़ाना होता है, तब केंद्र सकरार हमसे पूछती तक नहीं हैं. बोर्ड में जब निदेशक तय करने की बात होती है, तब भी केंद्र सरकार राज्य सरकार की राय तक नहीं लेती. इतना ही नहीं कॉरिडोर की मंजूरी देनी होती है, तब भी हमारी नहीं सुनी जाती, तो हम अकेले पैसे क्यों चुकाएं. जबकि मेट्रो से संबंधित सभी फैसले केन्द्र सरकार करती है'. '

ये भी पढ़े: 101 रक्षा उत्पादों के आयात पर लगेगी रोक, देश में ही होगा निर्माण- रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह


Tags:

Related Articles

Popular Posts

Photo Gallery

Images for fb1
fb1

STAY CONNECTED