Logo
August 7 2020 02:55 PM

दिवाली की खुशियां हो जाएगी डबल, इस खास मुहुर्त पर करें पूजा

Posted at: Nov 4 , 2018 by Dilersamachar 5340
पांच दीवसीय प्रकाश पर्व दीपावली एवं पुष्य नक्षत्र के विशेष मुहुर्त जिनमें आभूषण , भूमि, भवन, बरतन, मशीनरी , इलेक्ट्रानिक सामान , वस्त्र वाहन एवं अन्य सामग्री खरीदने के लिये पुष्य नक्षत्र एवं धन तेरस के शुभ मुहुर्त । विभिन्न प्रकार की पूजा करने के विभिन्न मुहुर्त । लक्ष्मी पूजा के मुहुर्त गोर्वधन पूजा, भाई दूज, दवात कलम पूजा के मुहुर्त ।
 
पुष्य नक्षत्र
पुष्य नक्षत्र दिनांक 30 अक्टोबर मंगलवार-बुधवार की रात्रि 03 बजकर 30 मिनट से प्रारंभ होकर बुधवार-गुरू की रात्री को दिनांक 31 अक्टोबर 2018 को रात्रि 3 बजकर 10 मिनट तक रहेगा चूंकि बुध पुष्य होने के कारण यह शुभ रहेगा इस दिन भूमि एवं स्वर्ण आभूषण की खरददारी के लिये शुभ रहेगा ।
 
दिन के शुभ चौघटिये 
लाभ एवं अमृत सुबह 06 बजकर 35 मिनट से 09 बजकर 23 मिनट तक शुभ सुबह 10 बजकर 47 मिनट से 12 बजकर 11 मिनट तक चंचल एवं शुभ दोपहरपश्चात 2 बजकर 59 मिनट से 05 बजकर 47 मिनट तक  शुभ एवं अमृत संध्या 07 बजकर 21 मिनट से रात्री 10 बजकर 29 मिनट तक कुछ अत्यंत शुभ योग जो इस समय अंतराल में पड़ेंगे ।
 
दिनांक 04 नवंबर , 08 एवं 09 नवंबर को सर्वाथ सिद्धि योग भी रहेगा 
दिनांक 10 नवंबर को रवि योग भी रहेगा 
दिनांक 03 व 04 नवंबर को त्रिपुष्कर योग भी रहेगा 
 
दिनांक 05 नवंबर सोमवार को धनत्रयोदशी के मुहुर्त 
पूजन एवं खरीददारी के मुहुर्त धनवन्तरी पूजन एवं यम दीपदान
 
धनत्रयोदशी तिथि दिनांक 04-05 नवंबर 2018 को तड़के प्रातः काल में 01 बजकर
25 मिनट पर आरंभ होकर दिनांक 05 नवंबर 2018 को रात्री 10 बजकर
27 मिनट तक चलेगी । इसीलिये धनतेरस का दान एवं पूजन सोमवार को होगा।
अमृत प्रातः 06 बजकर 38 मिनट से 08 बजकर 01 मिनट तक 
शुभ प्रातः 09 बजकर 24 मिनट से 10 बजकर 47 मिनट तक 
चंचल प्रातः 01 बजकर 35 मिनट से 2 बजकर 58 मिनट तक 
लाभ दोपहर 2 बजकर 58 मिनट से 04 बजकर 21 मिनट तक 
अमृत संध्या 04 बजकर 21 मिनट से 05 बजकर 44 मिनट तक 
चंचल संध्या 05 बजकर 44 मिनट से 7 बजकर 21 मिनट तक 
लाभ रात्री 10 बजकर 35 मिनट से 11 बजकर 12 मिनट तक 
 
संध्याकालीन समय पर दीपदान का महत्व है , इस दिन बहने आपने भाई 
की लंबी आयु के लिये घर के बाहर दीपक लगती है जिससे यमदेव
प्रसन्न होते है । 
 
दीपावली पर लक्ष्मी पूजन के कार्यालय एवं घर पर पूजन के विशेष मुहुर्त 
 
इस वर्ष दीपावली पर लक्ष्मी पूजन के कार्यालय पर पूजन के विशेष मुहुर्त 
चर लग्न में होती है कार्यालय में पूजन दीपावली पर लक्ष्मी पूजन के लिये
चर लग्न का मुहुर्त प्रातः 05 बजकर 07 हमनट से सुबह 07 बजकर 21 मिनट तक रहेगा 
यह तुला लग्न है इस समय अपने कार्यालय या दुकान पर पूजा की जा सकती है 
चर लग्न दोपहर 11 बजकर 42 मिनट से 1 बजकर 29 मिनट तक रहेगा 
यह मकर लग्न है इस समय किया गया पूजन बहुत ही श्रेयस्कर होगा ।
क्योंकि इस समय लग्नेश शनि द्वादश एवं लक्ष्मी का परम कारक ग्रह शुक्र जो की 
कर्मेश एवं पंचमेश भी है सूर्य व चंद्र के साथ कर्म भाव में बैठे है ।
संध्या काल 04 बजकर 32 मिनट से 06 बजकर 12 मिनट तक रहेगा
यह मेष लग्न है इस समय किया गया पूजन बहुत ही उत्तम होगा ।
क्योंकि इस समय लग्नेश लाभ में एवं लक्ष्मी का परम कारक ग्रह शुक्र जो की 
सप्तम में है , कर्मेश शनि भाग्य में बैठे है ।
 
इस दिन का अंतिम चर मुहुर्त रात्रि 10 बजकर 25 मिनट से रात्रि 12 बजकर 40 मिनट तक रहेगा ।
 
इस वर्ष दीपावली पर लक्ष्मी पूजन के घर पर पूजन के विशेष मुहुर्त 
 
घर पर पूजन स्थिर लक्ष्मी का किया जाता है इसीलिये यह पूजा स्थिर लग्न
में की जाती है चर लग्न का समय प्रातः काल 07 बजकर 22 मिनट से 
प्रातः 09 बजकर 37 मिनट तक रहेगा इस समय वृश्चिक लग्न होगा एवं 
लक्ष्मी के लिये परम कारक ग्रह शुक्र भोग स्थान में रहेंगे ।दूसरा स्थिर लग्न 
दोपहर 01 बजकर 30 मिनट से प्रारंभ होगा जो 03 बजकर 02 मिनट 
तक रहेगा एवं प्रमुख मुहुर्त संध्या 06 बजकर 13 मिनट से रात्रि 08 बजकर
12 मिनट तक रहेगा । इस समय भाग्येश एवं कर्मेश शनि आठवें , लक्ष्मी के कारक
शुक्र जो कि स्वयं लग्नेश भी है छठे स्थान में चंद्रमा व सूर्य के साथ बैठे है।
आज का अंतिम स्थिर लग्न जो कि तांत्रिक साधना के लिये 
सर्वथा अनुकूल है वह रात्रि 12 बजकर 45 मिनट से 02 बजकर 56
मिनट तक रहेगा 
 
गोर्वधनपूजा को प्रातः काल से 07 बजकर 23 मिनट तक या 11 बजकर 31 मिनट से 12 बजकर 54 मिनट तक करना श्रेयस्कर होगा ।
 
पं. संजय शर्मा ज्योतिष , औरा रीडर, कलर थेरेपिस्ट्स, वास्तु एवं रत्न विशेषज्ञ  09893129882 , 09424828545

ये भी पढ़े: MP Election 2018 : BJP मुख्यालय पर जमकर हंगामा


Tags:

Related Articles

Popular Posts

Photo Gallery

Images for fb1
fb1

STAY CONNECTED