Logo
October 17 2021 12:56 PM

विशेषज्ञ ने कहा- अगले साल वसंत तक सामान्य जुखाम जैसी होकर रह जाएगी कोविड-19 महामारी

Posted at: Sep 24 , 2021 by Dilersamachar 9440

दिलेर समाचार, कोविड-19 महामारी (Covid-19 Pandemic) से अभी तक दुनिया के निजात नहीं मिली है. जहां दुनिया के कई देशों में तीसरी लहर आ चुकी है तो वही भारत जैसे देशों में तीसरी लहर कभी भी आ सकती है ऐसा बताया जा रहा है. इस दौरान वैक्सीनेशन (Vaccination) पर जोर दिया जा रहा है. बच्चों को वैक्सीन देने की तैयारी जोरों पर है. इसी बीच विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना वायरस का यह संक्रमण अंततः ऐसी बीमारी में बदल जाएगा जो सामान्य सर्दी जुखाम (Common Cold) की तरह ही हलका असर देने वाली होगी. विशेषज्ञों का कहना है कि इसके खौफ का अंत एक सर्दी की तरह हो जाएगा.

प्रोफेसर डेम सारा गिलबर्ट और सर जॉन बेल, दोनों का कहना है कि कोरोना वायरस के और खतरनाक वेरिएंट अब  नहीं आएंगे. ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में मेडिसिन के प्रोफेसर सर जॉन बेल का कहना है कि वायरस अगले साल वसंत तक सामान्य जुखाम से मिलता जुलता हो जाएगा क्योंकि लोगों की इम्यूनिटी वैक्सीन और वायरस से जूझते हुए बहुत बढ़ जाएगी.

जॉन बेल का कहना है कि यूके में हालात बदतर से ज्यादा हो चुके हैं और सर्दीयों के जाने के बाद हालात ठीक हो जाने चाहिए. उन्होंने कहा कि लोगों को वैक्सीन लगने के बाद भी वायरस से लागतार सामना हो रहा है. इसी बीच मोडर्ना का चीफ एक्ज्यूटिव स्टीफेन बेन्सेल ने भी कहा है कि कोविड महामारी एक साल के अंदर ही खत्म हो जाएगी क्योंकि वैश्विक स्तर पर वैक्सीन की आपूर्ति बढ़ रही है.

इससे पहले प्रोफेसर गिल्बर्ट ने कहा था कि वायरस फैलने के साथ ही कमजोर होता जा रहा है. इस पर टिप्पणी करते हुए सर जॉन ने कहा जिस तरह के रुझान दिख रहे हैं अगले छह महीनों में  हम बेहतर हो सकते हैं. इसलिए दबाव कम है. कोविड मौतें बहुत ज्यादा बुजुर्गों की ही हो रही है. यह भी स्पष्ट नहीं है कि ये मौते निश्चित रूप से कोविड की वजह से ही हो रही है.

ये भी पढ़े: Caste Census: पिछड़े वर्गों की जाति जनगणना प्रशासनिक रूप से कठिन

Related Articles

Popular Posts

Photo Gallery

Images for fb1
fb1

STAY CONNECTED