Logo
May 18 2024 12:35 PM

आर्किटेक्चर की संरचना और सुदंरता को बयां करती है पुस्तटक “आर्किटेक्चदर ऑफ जस्टिस’’

Posted at: Dec 3 , 2018 by Dilersamachar 10011

दिलेर समाचार, नई दिल्ली । पेशे से वकील और फोटोग्राफर विनय ठाकुर की पुस्तलक ‘’आर्किटेक्चहर ऑफ जस्टिस’’ का विमोचन इंडिया इंटरनेशनल सेंटर सभागार में किया गया। पुस्त क का विमोचन मुख्य न्यायाधीश श्रीमान रंजन गोगोई ने किया। 
कार्यक्रम की अध्यक्षता सुप्रीम कोर्ट के जज जस्टिस शरद ए बोबडे ने की। इस मौके पर उन्हों्ने लेखक के समर्पण और वचनबद्धता की प्रशंसा की। अदालत के निर्माण वास्तुकला पर लिखी गई यह एक दुर्लभ पुस्त क है। इस पुस्तक में अदालतों की अनदेखी छवियां आपको देखने को मिलेंगी। 
इस उल्लेनखनीय पुस्त क को अंजाम तक पहुंचाने के लिए लेखक विनय ठाकुर और अमोग ठाकुर के बारे में माननीय श्री न्यायमूर्ति रविंद्र भट ने कहा कि यह पुस्तोक देश के न्यारयालयों के बारे में रोचक जानकारी उपलब्धभ कराती है। यह एक अनूठी तरह की नई कॉफी-टेबल बुक है, जिसमें हमारे देश के न्याहयालयों की भव्यता और समारोह को प्रमाणित करती है। 
गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्रे मोदी ने भी इस  कॉफी-टेबल बुक को लेकर खुशी जताई है और पेशे से वकील विनय ठाकुर को इस पुस्त क के लिए बधाई देते हुए कहा कि यह अनूठी पहल सराहनीय है, जिसमें हमारे देश के तमाम न्यायिक संस्थान की भव्यता को दर्शाया गया है जिसका इतिहास खुद में हर किसी के लिए एक गर्व महसूस करवाता है। 
223 पेज की कॉफी-टेबल बुक विनय ठाकुर की पूर्व पुस्तक, द कोर्ट्स ऑफ इंडिया - पास्ट टू प्रेज़ेंट (2016) की अगली कड़ी है, जहां उन्होंने सर्वोच्च न्यायालय, 24 उच्च न्यायालयों और 12 बेंच को तस्वीेरों के जरिए दिखाएं हैं। इस पुस्त्क को तैयार करने में विनय ठाकुर ने फरवरी से जुलाई 2016 तक उच्च न्यायालय और सर्वोच्च न्यायालय के लगभग 10 हजार तस्वीुरें खींच कर उनके आर्किटेक्चवर की संरचना और सुदंरता को बयां किया है, जो ब्रिटिश युग के दौरान बने थे। 
‘’आर्किटेक्चार ऑफ जस्टिस’’ के लेखक और फोटोग्राफर विनय आर ठाकुर कहते हैं कि उन्हेंश सुप्रीम कोर्ट का सही शॉट लेने के लिए फायर ब्रिगेड से इजाजत लेनी पडी, ताकि सुप्रीम कोर्ट का सही शॉट लिया जा सकें। उन्हों ने कहा कि फोटोग्राफी में मेरा प्रशिक्षण और अनुभव काम आया। यही वजह है कि मैंने अलग नजरिए से अदालत की सुंदर इमारत को देखा, सीखा और महसूस किया। मैंने सीखा, कि केंद्रीय हॉल जो अदालतों की ओर जाता है, उसे 'पियानो नोबाइल' कहा जाता है, जो इसकी यूरोपीय आर्किटेक्चार पृष्ठभूमि से चित्रित होता है। इसके अलावा, पत्थर में उत्कीर्ण अदालत की आधिकारिक मुहर धर्म, धन और शक्ति की सुरक्षा का प्रतीक है। 
पुस्त क के सह- लेखक अमोग ठाकुर के मुताबिक यह सुप्रीम कोर्ट और भारत के उच्च न्यायालयों का एक पिक्चरियल वाक-थ्रू है, जो भवनों को उनके इतिहास और संदर्भ की पृष्ठभूमि को प्रस्तुत करता है। मुखौटे से खंभे तक, खिड़कियां और नक्काशीदार, जो एक आम व्यक्ति के लिए बेशक सामान्य सी लगती हैं, लेकिन एक फोटोग्राफर की आंखों से सुंदरता का प्रतीक नजर आती है। दुनिया को इसकी सुदरंता से रूबरू करवाना ही हमारा अहम मकसद है। मेरा सौभग्य  है कि मैं अपनी कल्पदना को इसमें उतार पाया। 
न्यायालयों की संरचनात्मक भव्यता आपको इस पुस्त्क में देखने को मिलेगी। कहीं हैदराबाद के निजाम की विशिष्ट शैली दिखाई देगी, तो कहीं न्या यालय के शाही दरबार हॉल को एकटक निहारते नजर आएंगे। कुल मिलाकर यह पुस्त‍क आर्किटेक के छात्रों के साथ वकालत की प्रैक्टिस करने वालों के लिए ज्ञान का भंडार साबित होगी। इस कार्यक्रम में देश के नामी गिरामी न्याकयधीश, अधिवक्ताा और गणमान्यी लोगों ने हिस्सा् लिया।

 

ये भी पढ़े: कांग्रेस की गलतियां आज भुगत रहा है देश: पीएम मोदी

Related Articles

Popular Posts

Photo Gallery

Images for fb1
fb1

STAY CONNECTED