Logo
December 3 2021 06:04 PM

बीजेपी ने बात सुनी होती तो ये सब झेलना नहीं पड़ता- सुखबीर सिंह बादल

Posted at: Nov 25 , 2021 by Dilersamachar 9052

दिलेर समाचार, चंडीगढ़. किसान आंदोलन (Kisan Andoalan) के चलते शिरोमणि अकाली दल (Shiromani Akali Dal SAD) को भाजपा (BJP) को छोड़ कर सत्तारुढ़ गठबंधन से बाहर होना पड़ा. हालांकि कृषि कानून निरस्त (Farm Laws) करने के पीएम मोदी (Narendra Modi) के ऐलान के बाद एक बार फिर से अटकलों का दौर जारी है कि क्या शिअद एक बार फिर से आगामी चुनाव में भाजपा का दामन थामेगी? इन अटकलों पर भी शिअद के अध्यक्ष सुखबीर बादल (Sukhbir Singh Badal) स्पष्ट कर चुके हैं कि वे भाजपा के साथ नहीं जाएंगे. कृषि काननों के निरस्त करने के ऐलान के बाद टाइम्स ऑफ इंडिया को दिए एक विस्तृत इंटरव्यू में सुखबीर बादल ने अपना दर्द बताते हुए कहा कि अगर बीजेपी ने हमारी बात सुनी होती तो उन्हें यह सब झेलने की जरूरत नहीं पड़ती और कई किसानों की जान बचाई जा सकती थी.

उन्होंने कहा कि जब इन कानूनों को पहली बार कैबिनेट में लाया गया था, तब हमने उन्हें इस बारे में चेतावनी दी थी, लेकिन दुर्भाग्य से मोदी सरकार ने सोचा कि वे अपना रास्ता आगे बढ़ा सकते हैं, और उन्होंने ऐसा किया. नतीजतन हमें बिना कुछ लिए ही संकट से गुजरना पड़ा. इसके लिए पूरी तरह केंद्र सरकार जिम्मेदार है. जब उनसे पूछा गया कि कृषि कानूनों को निरस्त करने की घोषणा के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की छवि में आप क्या बदलाव देखते हैं, तो उन्होंने कहा कि इससे कोई फर्क नहीं पड़ता, पहले आप किसी चीज को नष्ट करते हैं और बाद में माफी मांगते हैं, छवि तुरंत नहीं बदलती है.

ये भी पढ़े: घटेगी देश की आबादी! प्रजनन दर में आई बड़ी गिरावट

Related Articles

Popular Posts

Photo Gallery

Images for fb1
fb1

STAY CONNECTED