Logo
January 20 2020 06:19 PM

‘यह धनबल, बाहुबल और राज्य मशीनरी के दुरुपयोग की हार’ - अहमद पटेल

Posted at: Aug 9 , 2017 by Dilersamachar 5253

दिलेर समाचार, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के सलाहकार और वरिष्ठ नेता अहमद पटेल राज्यसभा चुनाव जीत गए हैं. रात करीब दो बजे चुनाव आयोग ने उनकी जीत का एलान किया. अहमद पटेल इस जीत के साथ पांचवी बार राज्यसभा पहुंचे हैं. जीत के बाद अहमद पटेल ने बीजेपी पर राज्य मशीनरी के दुरुपयोग का आरोप लगाया है.

एबीपी न्यूज़ से खास बातचीत में अहमद पटेल ने कहा, ‘’यह मेरी अकेली की जीत नहीं है. यह मेरे कार्यकर्ताओं और पार्टी की जीत है.’’उन्होंने कहा, ‘’यह धनबलबाहुबल के धड़ल्ले से इस्तेमाल और राज्यमशीनरी के दुरुपयोग की हार है.’’

पटेल ने आगे कहा, ‘मैं खुश हूं और अपनी पार्टी के नेतृत्वअपने विधायकों और सभी कार्यकर्ताओं का आभार जताना चाहता हूंजिन्होंने एक परिवार की तरह काम किया. यह एक मुश्किल चुनाव था जिसमें हमें जीत मिली.’’

अहमद पटेल ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा, ‘’बीजेपी कांग्रेस को लगातार कमजोर करने की कोशिश कर रही है. लेकिन इसचुनाव ने बता दिया है कि इस साल होने वाले विधानसभा चुनावों में पार्टीबड़ी जीत हासिल करेगी. पार्टी के लोग एक साथ मिलकर बीजेपी को हराएंगे.’’

कैसे बदल गया जीत का गणित ?

दोनों कांग्रेस विधायकों के वोट रद्द होने से जीत का गणित बदल गया.विधायक भोला भाईराघव भाई के वोट रद्द होने के बाद जीत के लिए जरूरी आंकड़े में बदलाव हो गया. अब जीत के लिए 43.5 वोट चाहिए थे. जबकिअहमद पटेल को 44 वोट मिले और वह 0.50 वोट से जीत गए. अहमद पटेल को जो 44 वोट मिलेउनमें कांग्रेस के 41, जेडीयू का एकएनसीपी का एक और बीजेपी के बागी विधायक का एक वोट शामिल था.

बीजेपी ने दो सीटों अपना कब्जा जमाया

गुजरात की तीन राज्यसभा सीटों में से बीजेपी ने दो सीटों अपना कब्जाजमाया. बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह पहली बार राज्यसभा जाएंगे. दूसरी सीट पर स्मृति ईरानी ने भी अपनी जगह बरकरार रखी है. इस चुनाव में शाह और ईरानी को 46-46 वोट मिले. वहींअहमद पटेल को 44 वोट मिले जबकि कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए बलवंत सिंह राजपूत को 38 वोटों से संतोष करना पड़ा.

कौन हैं अहमद पटेल?

अहमद पटेल ने साल 1976 में गुजरात के भरुच से अपना राजनीतिक करियर शुरू किया था. अहमद पटेल 1977 से 1989 तक तीन बार लोकसभा के लिए चुने गए हैं. वह साल 1993 से लगातार पांच बार राज्यसभा सांसद चुने गए. साल 2001 में पटेल कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के राजनीतिक सचिव बने. अहमद पटेल को सोनिया गांधी और राहुल गांधी का बेहद करीबी माना जाता है.

 

ये भी पढ़े: सोनिया गांधी के चाणक्य हैं अहमद पटेल, जानें इनका सियासी सफर


Tags:

Related Articles

Popular Posts

Photo Gallery

Images for fb1
fb1

STAY CONNECTED