Logo
April 5 2020 03:16 AM

कर्नाटक: किस तरह बच निकले 'रेड्डी बंधु'?

Posted at: May 1 , 2018 by Dilersamachar 5210

दिलेर समाचार, नई दिल्ली। कर्नाटक सरकार ने वर्ष 2013 में राज्य में अवैध तरीके से लौह अयस्कों के निर्यात का मामला सीबीआई को सौंपा था. आरोपियों में बल्लारी के कद्दावर 'रेड्डी बंधु' का नाम भी शामिल था, जो अभी भाजपा के उम्मीदवार और टॉप प्रचारकों में शामिल हैं. मामला 12,000 करोड़ रुपये मूल्य के लौह अयस्कों के चार राज्यों में फैले 9 पोर्ट के जरिये अवैध निर्यात से जुड़ा था. एनडीटीवी द्वारा देखे गए दस्तावेजों के मुताबिक अब करीब 4 साल बाद जब कर्नाटक चुनाव नजदीक है, सीबीआई ने राज्य-दर-राज्य तकनीकी कारणों का हवाला देते हुए केस बंद करने शुरू कर दिए हैं.

जून 2017 में सीबीआई की गोवा शाखा ने कर्नाटक सरकार को पत्र लिखकर कहा था कि, उन्हें प्राथमिक जांच बंद करनी पड़ रही है क्योंकि गोवा सरकार ने लौह अयस्क मामले की जांच सिर्फ कनार्टक से ही करने की इजाजत दी है. इसी तरह 8 नवंबर 2017 को सीबीआई की चेन्नई और बंगलौर शाखा के पत्र में तमिलनाडु व कर्नाटक में केस बंद करने के पीछे सरकारी एजेंसी द्वारा डाटा की पुष्टि न होना वजह बताया.

 

ये भी पढ़े: कर्नाटक : लगातार तीन रैलियों को संबोधित करेंगे पीएम मोदी


Tags:

Related Articles

Popular Posts

Photo Gallery

Images for fb1
fb1

STAY CONNECTED