Logo
May 21 2024 03:41 PM

नन बलात्कार प्रकरण: एसआईटी बिशप मुलक्कल से तीसरे दिन भी करेगी पूछता

Posted at: Sep 21 , 2018 by Dilersamachar 9960

 दिलेर समाचार,केरल पुलिस ने नन से बलात्कार और अप्राकृतिक यौन संबंध बनाने के आरोपों को लेकर बिशप फ्रांको मुलक्कल से बृहस्पतिवार को आठ घंटे से अधिक समय तक पूछताछ की और कल तीसरे दिन भी पूछताछ करेगी।

कैथोलिक बिशप कॉन्फ्रेंस ऑफ इंडिया (सीबीसीआई) ने बताया कि इस बीच वैटिकन ने जालंधर डियोसीस ऑफ मिशनरीज ऑफ जीसस के बिशप मुलक्कल को अस्थायी रुप से उनके पादरी की जिम्मेदारियों से मुक्त कर दिया है।

कोट्टायम के पुलिस अधीक्षक हरि शंकर ने मुलक्कल से लंबी पूछताछ के बाद कहा, ‘‘हमने आज पूछताछ पूरी कर लेने का निर्णय लिया था। लेकिन यह शाम साढ़े सात बजे के बाद भी पूरी नहीं हो पायी। जांच दल के सामने अबतक आए मामलों की सत्यापन की जरुरत है और वह कल सुबह तक पूरी हो जाएगी।’’।

उन्होंने कहा, ‘‘तीन टीमों सत्यापन करेंगी। इसलिए जांच कल भी जारी रहेगी। कल तक हम सत्यापन पूरी कर पायेंगे। ’’।पूछताछ को सकारात्मक करार देते हुए उन्होंने कहा कि मुलक्कल को कल सुबह साढ़े दस बजे पेश होने नोटिस जारी किया गया है।

मामले की जांच कर रहे विशेष जांच दल के सूत्रों ने बताया कि पूछताछ कल पूरा हो जाने की संभावना है।दिन में केरल के पुलिस प्रमुख लोकनाथ बेहेरा ने कहा था कि मुलक्कल को गिरफ्तार किया जाए या नहीं, उसका फैसला अगले दो तीन दिनों में हो जागा।

नन पर कथित यौन हमले को लेकर लगातार चल रहे जनाक्रोश के बीच सीबीसीआई ने कहा कि पोप फ्रांसिस ने मुलक्कल को पादरी की जिम्मेदारियों से अस्थायी रुप से मुक्त कर दिया। इस फैसले का 13 दिन से प्रदर्शन कर रहीं ननों के समूह ने स्वागत किया। उन्होंने कहा कि बिशप के खिलाफ संघर्ष में यह उनकी ‘‘पहली जीत’’ है।

वैसे ‘सेव आवर सिस्टर्स’ अभियान के संयोजक फादर ऑगस्टीन वट्टोली ने पादरी की गिरफ्तारी में देरी पर सरकार की आलोचन की । उन्होंने कहा, ‘‘हम ठगा महसूस करते हैं।’’उन्होंने चेतावनी दी कि यदि मुलक्कल को गिरफ्तार नहीं किया जाता है तो केरल की सड़कों पर प्रदर्शन तेज होगा।

सीबीसीआई ने एक बयान में कहा कि पोप ने तत्काल प्रभाव से आर्कडियोसीस ऑफ बांबे के बिशप इमरिट्स एंग्लो रुफिनो ग्रैसियस को डियोसीस ऑफ जालंधर का एपोस्टोलिक प्रशासक बनाया है

केरल कैथोलिक बिशप काउंसिल के प्रवक्ता फादर वर्गीज वल्लीकट्टू ने पीटीआई भाषा से कहा कि पोप ने फ्रांका मुलक्कल द्वारा जालंधर डियोसी के बिशप पद से अस्थायी रुप से हटने के लिए 16 सितंबर को लिखे गये पत्र के आलोक में यह निर्णय लिया है। ।केरल पुलिस द्वारा इस मामले में पूछताछ के लिए तलब किये जाने के बाद फ्रांका मुलक्कल ने यह पत्र लिखा था।

 

बिशप मुलक्कल पर मिशनरीज ऑफ जीसस कांग्रेगेशन ऑफ जालंधर डियोसी की केरल की एक नन से बार-बार बलात्कार करने का आरोप है। फ्रांका मुलक्कल ने आरोप से इनकार किया है।

 

मुलक्कल की गिरफ्तारी और नन को न्याय दिए जाने की मांग को लेकर यहां प्रदर्शन कर रहीं विभिन्न कैथोलिक सुधार संगठनों की ननों के समूह ने पोप के निर्णय का स्वागत किया।

 

इस संबंध में एक नन ने कहा, ‘‘हम बहुत खुश हैं...वैटिकन ने अंतत: हमारी प्रार्थना सुन ली है। बिशप के खिलाफ हमारे संघर्ष में यह पहली जीत है।’’।

ये भी पढ़े: GST के तहत पहली अक्टूबर से एक प्रतिशत TCS काटेंगी ई कॉमर्स कंपनियां

Related Articles

Popular Posts

Photo Gallery

Images for fb1
fb1

STAY CONNECTED