Logo
July 13 2024 09:14 PM

पूरी हुई लापता पैराग्लाकइडर की तलाश

Posted at: Jun 18 , 2024 by Dilersamachar 9250

दिलेर समाचार, इंडो तिब्‍बत बॉर्डर पुलिस (आईटीबीपी) के जवान आखिरकार लापता हुए अमेरिकी पैराग्‍लाइडर के शव तक पहुंचने में कामयाब हो गए. कहने में यह यह बात जितनी आसान है, आईटीबीपी के जवानों के लिए यह रेस्‍क्‍यू ऑपरेशन उतना ही मुश्किल था. कहने में यह बात गलत नहीं होगी कि शायद आईटीबीपी को मिला यह टास्‍क दुनिया के सबसे मुश्किल रेस्‍क्‍यू ऑपरेशन में एक होगा.

दरसअल, लाहौल स्‍पीति घूमने आए इस अमेरिकी पर्यटक ने 11 जून को गेटे गांव से पैराग्‍लाइडर से उड़ान भरी थी. तेज हवाओं के चलते पैराग्‍लाइडर की दिशा बदल गई और अमेरिकी पर्यटक ऊंची पहाडि़यों से टकराकर लापता हो गया. करीब छह दिन चली कवायद के बाद इस अमेरिकी पर्यटक का शव तो खोज लिया गया, लेकिन इनती ऊंचाई पर पहुंचना और वहां से शव को नीचे लाना स्‍थानीय प्रशासन के बस की बात नहीं थी.

लिहाजा, हिमवीर के नाम से मशहूर आईटीबीपी के जवानों को यह टास्‍क सौंपा गया. आईटीबीपी के जवानों को करीब 14800 फीट (करीब 4.5 किमी) की चढ़ाई कर पर्वत की चोटी पर पहुंचना था और फिर वहां से अमेरिकी पर्यटक के शव को लेकर नीचे आना था. यहां आपको बता दें कि आईटीबीपी के जवानों के लिए 14800 फीट की यह चढ़ाई बिल्‍कुल आसान नहीं थी. जवानों को खड़े पत्‍थरों पर चढ़ते हुए ऊपर पहुंचा था.

एक मुश्किल और लंबी कवायद के बाद आईटीबीपी के जवान उस जगह तक पहुंचने में कामयाब रहे, जहां पर अमेरिकी पर्यटक का शव पड़ा हुआ था. आईटीबीपी ने शव को अपने कब्‍जे में लिया और नीचे उतरना शुरू किया. करीब पांच घंटे की लंबी मेहनत के बाद आईटीबपी के जवान इस शव को लेकर नीचे उतर आए. अब आईटीबीपी की तरफ से इस रेस्‍क्‍यू ऑपरेशन का वीडियो जारी किया गया है.

आईटीबीपी द्वारा जारी यह वीडियो रोंगटे खड़ा करने वाला है. इस वीडियो को देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि आईटीबीपी के जवानों के लिए यह रेस्‍क्‍यू ऑपरेशन कितना मुश्किल रहा होगा. इस ऑपरेशन को पूरा करने के बाद आईटीबीपी ने जानकारी दी है कि लाहौल और स्पीति के काजा के पास लापता हुए 31 वर्षीय अमेरिकी पैराग्लाइडर बोकस्टैलर ट्रेवर के शव को सफलता पूर्वक नीचे ले आया गया है.

ये भी पढ़े: श्रद्धा कपूर की उड़ी रातों की नींद

Related Articles

Popular Posts

Photo Gallery

Images for fb1
fb1

STAY CONNECTED