Logo
May 18 2024 01:14 PM

सीरम ने मांगी सभी वैक्सीन निर्माताओं के लिए छूट

Posted at: Jun 3 , 2021 by Dilersamachar 10169

दिलेर समाचार, नई दिल्ली. कोविशील्ड वैक्सीन (Covishield) की मैन्यूफैक्चरर कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) ने भी सरकार से क्षतिपूर्ति के दायित्व से छूट की मांग की है.  सीरम के सूत्रों ने गुरुवार को कहा, 'सिर्फ सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) ही नहीं अगर विदेशी कंपनियों को इसकी अनुमति दी जाती है तो सभी वैक्सीन कंपनियों को हर्जाना के मुद्दे पर छूट दी जानी चाहिए.

बता दें स्वास्थ्य मंत्रालय के सूत्रों ने बुधवार को संकेत दिया है कि सरकार भारत में टीकों के लिए मंजूरी में तेजी लाने के लिए फाइजर और मॉडर्ना को हर्जाने के मुद्दे पर भी छूट दे सकती है.  सरकार के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा बुधवार को कहा था कि भारत में फाइजर और मार्डर्ना को क्षतिपूर्ति देने में 'कोई समस्या नहीं है'.

इससे पहले बुधवार को भारत के शीर्ष दवा नियामक ने केंद्रीय औषधि प्रयोगशाला, कसौली द्वारा विदेश में निर्मित कोविड-19 रोधी टीकों की जांच करने और ऐसी कंपनियों के लिए टीकों का इस्तेमाल शुरू करने के बाद ब्रिजिंग ट्रायल करने की अनिवार्यता में छूट दे दी है जिससे टीकों की उपलब्धता बढ़ेगी. भारत के औषधि महानियंत्रक का यह फैसला फाइजर तथा सिप्ला जैसी कंपनियों की मांग की पृष्ठभूमि में आया है. उन्होंने भारत को आयातित टीकों की आपूर्ति के लिए की गई बातचीत के दौरान यह मांग की थी.अभी तक किसी भी विदेशी कंपनी को भारत में कोरोना वायरस रोधी टीका शुरू करने से पहले ब्रिजिंग ट्रायल करना होता था. इसमें सीमित संख्या में स्थानीय स्वयंसेवकों पर टीके की प्रभावकारिता और सुरक्षा को परखा जाता है. डीसीजीआई के अनुसार, भारत में हाल ही में कोविड-19 के मामले बेतहाशा बढ़ने के कारण बढ़ी टीकों की मांग तथा देश की जरूरतों केा पूरा करने के लिए आयातित टीकों की उपलब्धता बढ़ाने की जरूरत को देखते हुए यह छूट दी गई हैं.

ये भी पढ़े: मोबाइल चार्ज करते हुए धमाके के साथ फटा पावर बैंक! गई 28 साल के युवक की जान

Related Articles

Popular Posts

Photo Gallery

Images for fb1
fb1

STAY CONNECTED