Logo
May 21 2024 03:38 PM

यूं ही अचानक झाड़ू नहीं लगाने लगते बच्चे , इसके पीछे छिपा है ये बड़ा राज

Posted at: Oct 5 , 2017 by Dilersamachar 9849

दिलेर समाचार,झाड़ू का सीधा संबंध सफाई से है इसलिए शास्त्रों में इसे भी देवी लक्ष्मी का प्रतीक माना गया है। वैदिक मान्यताओं में घर में झाड़ू रखने के स्थान से लेकर इसका उपयोग करने तक के लिए कुछ विशेष नियम बनाए गए हैं जिनका पालन करना हर खुशहाल परिवार के लिए आवश्यक माना गया है।झाड़ू के प्रयोग से जुड़ी कई मान्यताएं हैं जैसे सुबह की शुरुआत सबसे पहले झाड़ू द्वारा घर की सफाई करना, नए घर में पुराना झाड़ू ना लेकर जाना, सूर्यास्त के बाद घर में झाड़ू ना लगाना आदि। ये कुछ ऐसी मान्यताएं जिनहें करना घर से दरिद्रता को दूर भगाकर लक्ष्मी का स्थाई निवास होने के लिए आवश्यक माना गया है।इसके अलावा झाड़ू रखने को लेकर भी कई तरह की मान्यताएं हैं। ऐसा माना जाता है कि झाड़ू को कभी भी खड़ा कर नहीं रखना चाहिए, इससे घर के दुश्मन बढ़ते हैं। यह भी मान्यता है कि झाड़ू को कभी भी खुले में नहीं रखना चाहिए, बल्कि यह घर में ऐसी जगह पर रखा जाना चाहिए जहां किसी की भी नजर उसपर ना पड़े। खासकर बाहर से आने वाले लोगों या अतिथियों की नजर में वह बिल्कुल ना आए।

इसी प्रकार एक अन्य मान्यता बच्चों को लेकर है। अक्सर घरों में देखा जाता है कि छोटे बच्चे अचानक ही अपने खिलौने छोड़ ‘झाड़ू’ उठाकर उससे खेलने लगते हैं या घर में बड़ों की नकल करते हुए झाड़ू उठाकर उससे सफाई करने का प्रयास करते हैं। अगर कभी घर का कोई भी बच्चा ऐसा करता है, शास्त्रीय अर्थों में यह घर में किसी आगंतुक या अतिथि के आने का संकेत है।इसके अलावा यह भी माना जाता है कि आनेवाला अतिथि या तो आपके लिए आर्थिक दृष्टि से किसी प्रकार से लाभप्रद सिद्ध होगा या किसी अन्य प्रकार से आपको धन लाभ होगा। सीधे शब्दों में यह आपपर मां लक्ष्मी की कृपा होना भी दिखाता है।

अन्य मान्यताएं

इसके अलावा झाड़ू से जुड़ी कुछ और भी मान्यताएं हैं जैसे नए घर में प्रवेश करते हुए अगर वहां मरी हुई छिपकली दिख जाए तो वहां रहने वाले परिवार के लिए हानिकाराक होता है। इसलिए अगर किरायेदार के रूप में रहने जा रहे हैं तो वहां रहने का विचार त्याग दें और अगर अपना घर हो तो पूजा करवाने के बाद ही वहां प्रवेश करें।लक्ष्मी का प्रतीक होने के कारण कभी भी झाड़ू का अपमान ना करें। इसपर पैर रखकर चलना या लांघना वर्जित माना जाता है, इसलिए खुद भी ऐसा ना करें और बच्चों को भी ऐसा करने से रोकें।

ये भी पढ़े: 9 नवंबर 2017 में आने वाला “गुरु-पुष्य योग”, करेगा हर संकट को दूर

Related Articles

Popular Posts

Photo Gallery

Images for fb1
fb1

STAY CONNECTED