Logo
September 24 2021 02:04 AM

9/11 हमले के 20 साल बाद भी नहीं बदली आतंक की तस्वीर

Posted at: Sep 11 , 2021 by Dilersamachar 10014

दिलेर समाचार, नई दिल्ली.  20 फरवरी 2020 को न्यूयॉर्क टाइम्स के एक लेख में अफगानिस्तान के गृह मंत्री और प्रतिबंधित हक्कानी नेटवर्क के प्रमुख सिराजुद्दीन हक्कानी (Sirajuddin Haqqani) ने ‘एक नए, समावेशी राजनीति का झूठा वादा किया. एक ऐसी व्यवस्था जिसमें हर अफगानी की आवाज शामिल करने का वादा था. जिससे कि कोई भी अफगानी खुद को अलग महसूस न करे. लोगों को कुछ ऐसी ही उम्मीदें 9/11 के आतंकी हमलों (9/11 Attack) के बाद भी थी. लेकिन दो दशक बाद भी तस्वीर नहीं बदली है. जिस सिराजुद्दीन हक्कानी को दुनिया ने आतंकी कहा और अमेरिका ने उस पर 5 मिलियन डॉलर का इनाम रखा वो आज तालिबान सरकार का गृहमंत्री मंत्री है.

अमेरिका ने पिछले 20 सालों में अफगानिस्तान में तालिबान को खदेड़ने के लिए 825 अरब डॉलर से अधिक खर्च किया. इसके अलावा पुनर्निर्माण पर 130 अरब डॉलर लगाया गया. तालिबान और अल कायदा के खिलाफ 2001 से युद्ध में कम से कम 2300 अमेरिकी सैनिकों की मौत हुई. लेकिन आज अमेरिका आतंक के मोर्चे पर 20 साल पीछे चला गया है. जिस आतंकी के खिलाफ उसने लड़ाई लड़ी थी, उन्हें ही आज उसने सत्ता सौंप दी.

9/11 के बाद अमेरिकी सेना द्वारा अफगानिस्तान पर 20 साल के सैन्य कब्जे ने कई मिथकों को तोड़ दिया है, जिससे अमेरिका की भविष्य की क्षमता और दुनिया पर प्रभाव डालने की क्षमता पर गंभीर सवाल खड़े हो गए हैं. 9/11 को न्यूयॉर्क में ट्विन-टॉवर हमलों के जवाब में 7 अक्टूबर 2001 को अमेरिका ने ऑपरेशन शुरू किया था. लेकिन ये हैं वो 5 बडे़ कारण जो अमेरिका की ताकतवर छवी को तोड़ती है.

ये भी पढ़े: दुनिया के देश जहां पिछड़ गए वहीं भारत आगे बढ़ रहा है- पीएम मोदी

Related Articles

Popular Posts

Photo Gallery

Images for fb1
fb1

STAY CONNECTED