Logo
May 29 2020 08:51 AM

आपके मोबाइल, कंप्यूटर में होता है सोना, ऐसे निकाल सकते हैं गोल्ड...!

Posted at: Feb 9 , 2020 by Dilersamachar 7723

दिलेर समाचार, हम इलेक्ट्रॉनिक सर्किट वगैरह को बेकार का सामान समझकर फेंक देते हैं, पर क्या आपको पता है कि उसमें से सोना भी निकल सकता है? यकीन नहीं आ रहा न? पर आईबीएनखबर.कॉम आपको बताने चल रहा है उस तरकीब के बारे में, जिसे अपनाकर आप भी बेकार की इलेक्ट्रॉनिक कचरों से सोना हासिल कर सकते हैं...

सोना कैसे निकालें, ये बात आगे हम बता ही रहे हैं पर उससे पहले ये जान लें कि इलेक्ट्रॉनिक कचरे से चांदी भी निकल सकती है। जी हां, हम जिन डिवाइसों को बेकार का कूड़ा समझकर फेंक देते हैं, वो तो बड़े काम की चीज है। आगे की स्लाइड्स में जानें, ई-कचरे से कैसे निकालें सोना... सोना कैसे निकालें, ये बात आगे हम बता ही रहे हैं पर उससे पहले ये जान लें कि इलेक्ट्रॉनिक कचरे से चांदी भी निकल सकती है। जी हां, हम जिन डिवाइसों को बेकार का कूड़ा समझकर फेंक देते हैं, वो तो बड़े काम की चीज है। आगे की स्लाइड्स में जानें, ई-कचरे से कैसे निकालें सोना...

सोना कैसे निकालें, ये बात आगे हम बता ही रहे हैं पर उससे पहले ये जान लें कि इलेक्ट्रॉनिक कचरे से चांदी भी निकल सकती है। जी हां, हम जिन डिवाइसों को बेकार का कूड़ा समझकर फेंक देते हैं, वो तो बड़े काम की चीज है। आगे की स्लाइड्स में जानें, ई-कचरे से कैसे निकालें सोना...

सबसे पहले सारे ई-कचरे को सोने को गलाने वाले बर्तन में रखें और उसे पूरी तरह से गला दें। इस कचरे को जलाने के बाद जो बेकार की चीजें होंगी, वो राख के रूप में उससे अलग हो जाएंगी। सबसे पहले सारे ई-कचरे को सोने को गलाने वाले बर्तन में रखें और उसे पूरी तरह से गला दें। इस कचरे को जलाने के बाद जो बेकार की चीजें होंगी, वो राख के रूप में उससे अलग हो जाएंगी।

सबसे पहले सारे ई-कचरे को सोने को गलाने वाले बर्तन में रखें और उसे पूरी तरह से गला दें। इस कचरे को जलाने के बाद जो बेकार की चीजें होंगी, वो राख के रूप में उससे अलग हो जाएंगी।

बाकी बचे ई-कचरे को हम दुबारा से उसी बर्तन में डालकर भट्टी में डाल दें। ये आप पर निर्भर करता है कि आप इलेक्ट्रॉनिक भट्टी का इस्तेमाल करते हैं या कोई अन्य पारंपरिक भट्टी। बाकी बचे ई-कचरे को हम दुबारा से उसी बर्तन में डालकर भट्टी में डाल दें। ये आप पर निर्भर करता है कि आप इलेक्ट्रॉनिक भट्टी का इस्तेमाल करते हैं या कोई अन्य पारंपरिक भट्टी।

बाकी बचे ई-कचरे को हम दुबारा से उसी बर्तन में डालकर भट्टी में डाल दें। ये आप पर निर्भर करता है कि आप इलेक्ट्रॉनिक भट्टी का इस्तेमाल करते हैं या कोई अन्य पारंपरिक भट्टी।

पूरे ई-कचरे को 1700 डिग्री गर्म करने के बाद आप उसे निकालें और एसिड से साफ करके कॉपर को अलग कर दें। पूरे ई-कचरे को 1700 डिग्री गर्म करने के बाद आप उसे निकालें और एसिड से साफ करके कॉपर को अलग कर दें।

पूरे ई-कचरे को 1700 डिग्री गर्म करने के बाद आप उसे निकालें और एसिड से साफ करके कॉपर को अलग कर दें।

इस पूरी तरह से लाल गर्म हो चुके ई-कचरे को निकालें और लौह तत्वों को अलग कर दें। इसके बाद इसे 1700 डिग्री टेंपरेचर पर गर्म करें। इस पूरी तरह से लाल गर्म हो चुके ई-कचरे को निकालें और लौह तत्वों को अलग कर दें। इसके बाद इसे 1700 डिग्री टेंपरेचर पर गर्म करें।

इस पूरी तरह से लाल गर्म हो चुके ई-कचरे को निकालें और लौह तत्वों को अलग कर दें। इसके बाद इसे 1700 डिग्री टेंपरेचर पर गर्म करें।

कॉपर को अलग करने के बाद बचे सामान को फिर से एसिड में डाल दें। इसके बाद उसे अलग करें। कॉपर को अलग करने के बाद बचे सामान को फिर से एसिड में डाल दें। इसके बाद उसे अलग करें। कॉपर को अलग करने के बाद बचे सामान को फिर से एसिड में डाल दें। इसके बाद उसे अलग करें।

आखिर में आपके पास 4 मिलिग्राम सोना बचेगा। पर इन सबमें इस्तेमाल हुए ई-कचरे का वजन कम से कम 2 किलोग्राम होना चाहिए। ई-कचरे में ये हिस्सा सर्किटबोर्ड का हो, इस बात का भी खास ख्याल रकें। इस वीडियो को देखें, और पूरी प्रक्रिया को वीडियो के माध्यम से समझें।  https://www.youtube.com/watch?vee_lmZIAwek आखिर में आपके पास 4 मिलिग्राम सोना बचेगा। पर इन सबमें इस्तेमाल हुए ई-कचरे का वजन कम से कम 2 किलोग्राम होना चाहिए। ई-कचरे में ये हिस्सा सर्किटबोर्ड का हो, इस बात का भी खास ख्याल रकें।

आखिर में आपके पास 4 मिलिग्राम सोना बचेगा। पर इन सबमें इस्तेमाल हुए ई-कचरे का वजन कम से कम 2 किलोग्राम होना चाहिए। ई-कचरे में ये हिस्सा सर्किटबोर्ड का हो, इस बात का भी खास ख्याल रकें। इस वीडियो को देखें, और पूरी प्रक्रिया को वीडियो के माध्यम से समझें।

ये भी पढ़े: अस्थमा के मरीजों के लिए रामबाण इलाज है ये उपाय


Tags:

Related Articles

Popular Posts

Photo Gallery

Images for fb1
fb1

STAY CONNECTED