Logo
February 18 2020 12:42 PM

आप के भी होश उड़ा देंगे सेक्स के ये रंगीन तरीके

Posted at: Sep 20 , 2017 by Dilersamachar 5477

हम आपको बता रहे हैं कि सेक्स से जुड़ी कुछ ऐसी ऊटपटांग बातों के बारे में जो सदियों पहले हमारे समाज में हुआ करती थीं। सेक्स, ये शब्द आते ही कई तरह की बातें और धारणाएं सुनने को मिलती हैं। कुछ बातें किसी के लिए सही होती हैं तो वही बातें किसी दूसरे के लिए गलत।

प्राचीन असीरिया में वैश्यावृति का अजीबोगरीब रिवाज था। वहां भी सभी कुंआरी लड़कियों के लिए वैश्यावृति करना अनिवार्य था। आकर्षण हासिल करने के लिए कुंआरी लड़कियों को अनजान मर्दों से सेक्स करवाया जाता था। इस रिवाज को पवित्र माना जाता था और इसे ऊंची जाति और निची जाति दोनों ही तरह की महिलाओं को फॉलो करना पड़ता था।

 

करीब 300 ईसा पूर्व प्राचीन चीन में एक सेक्स मैन्युअल फॉलो किया जाता था। इसके मुताबिक अगर कोई पुरुष हर रात अलग-अलग वर्जिन लड़कियों से सेक्स करता है और इस दौरान स्खलन नहीं होता तो वह पुरुष अमर हो जाता था। साल 1888 में सेक्स पर एक गाइड रिलीज की गई थी जिसके मुताबिक महिलाएं अगर कॉर्सेट पहनकर सेक्स करती थीं तो उनका सेक्शुअल आनंद बढ़ जाता था

। ऐसा इसलिए क्योंकि कॉर्सेट बेहद टाइट होता था जिससे खून के दिल में वापस पहुंचने में अवरोध उत्पन्न होता था जिससे सेक्शुअल ऑर्गन चार्ज्ड हो जाते और सेक्शुअल एक्साइमेंट पीक पर पहुंच जाता था। इसके अलावा यह भी मान्यता थी कि बालों का बड़ा और भारी जूड़ा बनाने से छोटे दिमाग पर प्रेशर पड़ता था जिससे सेक्शुअल ऑर्गन में गर्मी बढ़ जाती थी।

सन् 1894 में सेक्स को घिनौना माना जाता था लेकिन इसे भोगना जरूरी होता था। इसलिए जब दो लोग सेक्स के दौरान संलग्न होते थे तो उन्हें पूरी तरह से अंधेरे में इसे करना होता था। महिलाओं से अपेक्षा की जाती थी कि वे सेक्स के दौरान चुपचाप लेटी रहें और किसी तरह की आवाज न निकालें। साल 1900 में शादी पर एक किताब छपी थी जिसमें लिखा था कि एक महीने में 4 बार सेक्स करना बहुत था। अगर कोई दंपति इससे ज्यादा बार सेक्स करता था तो उसे जरूरत से ज्यादा माना जाता था।

 

ये भी पढ़े: इन ब्यूटी टिप्स को अपनाकर आप भी दे सकते हैं फिल्म अभिनेत्रियों को चैलेंज


Tags:

Related Articles

Popular Posts

Photo Gallery

Images for fb1
fb1

STAY CONNECTED