Logo
August 7 2020 03:32 PM

शनि की साढ़ेसाती दशा से आपको कवच की तरह बचाएंगे ये उपाय

Posted at: Jul 4 , 2020 by Dilersamachar 5543

दिलेर समाचार,  न्याय के देवता शनि को भले ही क्रूर ग्रह माना जाता है, लेकिन ये सदैव अपने कर्तव्य पथ का पालन करते हुए उसी के अनुसार फल देते हैं। शनि देव के इसी कर्मफल के चलते जहां लोग इनसे डरते हैं, वहीं कई लोग इन्हें अत्यंत क्रूर मानते हैं। कारण ये है कि ये कभी भी कर्म के फल में किसी चीज से प्रभावित नहीं होते।

पंडित सुनील शर्मा के अनुसार इनकी सीधी स्थिति ऐसे समझें हम में से जिसने भी शनि की दशा से पहले कुछ गलत किया है, तो शनि उसका दंड प्रदान करते हैं। सामान्यत: शनि के अपनी राशि में आते ही कई लोग ऐसे कर्म छोड़ देते हैं जो उनकी नजर में भी उचित नहीं होते, लेकिन शनि की दशा न होने पर वे उन्हीं कर्मों को कई बार अपने फायदे के लिए उपयोग में लाते हैं। ऐसे में शनि आपके उन्हीं कर्मों का दंड प्रदान करते हैं। जबकि यदि आप सदैव उचित जीवन जीते हैं, तो शनि अपनी साढ़े साती में तक आपको दंडित न करते हुए आपको कुछ शानदार अवसर तक प्रदान करते हैं।

दरअसल आज के दौर में जल्दबाजी के बीच शनि की चाल धीरे होने की वजह से लोग इनके द्वारा दिए जाने वाले आशीर्वाद को कम ही पहचानते हैं। दरअसल माना जाता है कि शनिदेव धीरे ही सही लेकिन आपके कार्य में मजबूती व स्थिरता प्रदान करते हैं।

वे यदि आप पर खुश हैं तो श्रेष्ठता प्रदान करने वाले भी माने जाते है। तभी सामान्यत: जब लोग जॉब ज्वाइन करने जाते हैं तो उन्हें इसे शनिवार के दिन ज्वाइन करने की ज्योतिष सलाह देते हैं, क्योंकि यहां शनि एक ओर जहां आपको मजबूती प्रदान करते हैं, वहीं स्थिरता भी देते हैं।

ज्योतिष के जानकार पंडित शर्मा का कहना है आजकल अधिकतर लोग कुंडली में शनि की दशा को लेकर बहुत घबराते हैं। वे सोचते हैं कि यदि उनकी कुंडली में शनि ग्रह का प्रभाव होगा, तो इसके कारण उनकी जिंदगी पर बहुत बुरा असर पड़ेगा।

जबकि ऐसा नहीं है यदि आप पर शनि की अच्छी दृष्टि है तो जीवन में किसी भी काम में आपको परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा, तरक्की व कामयाबी हमेशा आपका रास्ता चूमेगी। हां, लेकिन यदि शनि की बुरी दृष्टि आप पर है, तो इसके कारण आपको परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

वहीं कुछ लोग शनि की महादशा, शनि की ढैय्या, शनि की साढ़ेसाती से प्रभावित होते हैं। जबकि सामान्य धारणा ये है कि यदि शनि शुरुआती 2.5 सालों में कुछ बुरा करता है, तो अंत के 2.5 सालों में वह अच्छा भी करता है। वहीं कुछ लोगों के साथ पहले ढइया में कुछ लोगों को आराम देने के बाद शनि आखिर के ढाई साल में परेशानी देते हैं।

ये भी पढ़े: खतरे से भी ज्यादा खतरनाक होते हैं इस अक्षर से शुरु होने वाले ये सपने, अनहोनी का करते हैं इशारा


Tags:

Related Articles

Popular Posts

Photo Gallery

Images for fb1
fb1

STAY CONNECTED