Logo
May 18 2024 01:37 PM

दुश्मन को बर्बाद करने के लिए मिसाइल से लैस होंगे भारतीय सेना में शामिल हुए ये दमदार टैंक

Posted at: Aug 21 , 2017 by Dilersamachar 9536

दिलेर समाचार, भारतीय सेना अपनी क्षमताएं बढ़ाने के प्रयासों के तौर पर अपने टी-90 मुख्य युद्धक टैंकों को तीसरी पीढ़ी की मिसाइल प्रणाली से लैस कर उन्हें और सक्षम बनाने की परियोजना पर काम कर रही है। सेना के सूत्रों ने बताया कि मौजूदा समय में टी-90 टैंक लेजर निर्देशित INVAR मिसाइल प्रणाली से लैस हैं और सेना ने उसके स्थान पर तीसरी पीढ़ी की मिसाइलों को लगाने का फैसला लिया है।

परियोजना से संबंधित दस्तावेज के मुताबिक, मौजूदा INVAR मिसाइल का डिजाइन रेंज और लक्ष्य की गहराई DOP के लिहाज से अधिकतम सीमा तक तैयार किया गया है तो ऐसे में उसे अगली पीढ़ी की मिसाइलों के लिए उन्नत करना अनिवार्य हो जाता है। मिसाइल लक्ष्य पर निशाना साधने में कितनी दूरी तक जा सकती है उसे DOP कहते हैं। रूस निर्मित T-90 टैंक भारतीय सेना के आक्रामक हथियारों का मुख्य आधार है। सूत्रों ने बताया कि तीसरी पीढ़ी की मिसाइल को 800-850mm की DOP हासिल करनी चाहिए और वह दिन के साथ-साथ रात में भी 8 किलोमीटर की दूरी तक के लक्ष्य को निशाना बनाने में सक्षम होगी। सूत्रों ने बताया कि ये मिसाइलें स्थिर लक्ष्यों के साथ-साथ गतिशील लक्ष्यों को भेदने में भी सक्षम होंगी।

सेना T-90 टैंकों के लिए मॉड्यूलर इंजन लगाने की परियोजना पर भी काम कर रही है ताकि ऊंचाई पर होने वाली लड़ाई में भी हमला करने की उसकी क्षमताएं बढ़ सकें। क्षेत्र में उभरते सुरक्षा परिदृश्यों पर विचार करते हुए सरकार ने सेना की आक्रमण क्षमता बढ़ाने के लिए पिछले कुछ महीनों में कई कदम उठाए हैं। गत महीने सरकार ने सेना को यह अधिकार दिया था कि वह छोटी अवधि के लिए होने वाले भीषण युद्ध के लिए लड़ने की अपनी तैयारी को बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण युद्धक उपकरण सीधे तौर पर खरीद सकती है।

ये भी पढ़े: नोटबंदी ने अलगाववादी, माओवादी की कमर तोड़ दी धन संकट से जूझ रहे आतंकी -जेटली

Related Articles

Popular Posts

Photo Gallery

Images for fb1
fb1

STAY CONNECTED