Logo
October 26 2020 01:05 AM

जब एक्स बॉयफ्रेंड आपके प्राइवेट फोटो और वीडियो लीक करने की धमकी दे तो आप भी उठा सकते हैं ये कदम!

Posted at: Sep 24 , 2020 by Dilersamachar 9787

दिलेर समाचार, टॉक्सिक रिलेशनशिप काफी हानिकारक होती है। यह आपके मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य दोनों को प्रभावित करती है। रिवेंज पोर्न टॉक्सिक रिलेशनशिप का ही परिणाम हो सकता है। एक अध्ययन के अनुसार, नार्सिसिस्ट और मनोवैज्ञानिक लक्षण वाले लोग रिवेंज पोर्न ऑनलाइन पोस्ट कर सकते हैं। जाहिर है उस समय आपकी हालत खराब और बेसहारा-सी हो सकती है, जब आप खुद को ऐसी स्थिति में पाती हैं, जहां लड़का आपकी उन पर्सनल फोटो या वीडियो को सार्वजनिक करने की धमकी देता है, जो आपकी सहमति से लिए गए थे। अगर आप भी कुछ ऐसी ही स्थिति से गुज़र रही हैं, तो आपको इस लेख से मदद मिल सकती है।

1. यह समय उस व्यक्ति के खिलाफ कदम उठाने का है। उसे अपने इमोशन का ग़लत फायदा ना उठाने दें। यह आपकी ग़लती नहीं है। अपने गुस्से और अन्य भावनाओं को ठीक से संभालें अपने अधिकारों को जानें।

2. सोशल मीडिया पर हाल ही में कुछ टूल्स लॉन्च किये हैं। अगर कोई आपकी अनुमति के बिना किसी तरह की अश्लील तस्वीरें या विडियो शेयर कर रहा है, तो पोस्ट के बगल में दिखाई देने वाला “रिपोर्ट” लिंक का उपयोग करके उसे रिपोर्ट करना चाहिए। सोशल मीडिया टीम उसका रिव्यु करेगी और उसे हटा देगी।

3. आपको मालूम होना चाहिए कि रिवेंज पोर्न एक दंडनीय अपराध है जिसमें आईटी अधिनियम, 2000 और इंडियन पेनल कोड 1860 के तेहत 3-7 साल की जेल और 10 लाख रुपये तक जुर्माना होता है।

4. बिना सहमति के कोई भी सामग्री अपलोड करना आईटी की धारा 66 ई, 67, 67 ए और आईपीसी की धारा 354 सी के तहत एक दंडनीय अपराध है और यह बिना सहमति के फोटो लेने पर लागू होता है।

5. 18 वर्ष से कम उम्र के किसी भी व्यक्ति के बारे में अश्लील सामग्री को प्रकाशित करने के मामले में, आईटी अधिनियम की धारा 67 बी के तहत परिणाम और ज्यादा गंभीर हो सकते हैं।

6. यहां तक कि अगर वीडियो और फोटो को फ़ोटोशॉप किया गया हो तो उसकी वजह से भी आपको सजा मिल सकती है।

7. व्यक्ति के नाम या अन्य प्रकार के उत्पीड़न के बारे में पता करने के लिए धमकी देना धारा 400 और 506 के तहत मानहानि के क़ानून में आता है।

8. सरकार ने देश में विभिन्न राज्यों में साइबर फॉरेंसिक प्रशिक्षण और जांच प्रयोगशाला स्थापित की है और देश के सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में साइबर अपराध कोशिकाएं स्थापित की गई हैं। आप वहां रिपोर्ट कर सकते हैं और अपनी समस्या को आसानी से हल कर सकते हैं।

ये भी पढ़े: पोस्टमॉटर्म से जुड़ी ये बातें किसी को भी नहीं बताई जाती, की बताने की गलती तो हो सकता है बवाल!


Tags:

Related Articles

Popular Posts

Photo Gallery

Images for fb1
fb1

STAY CONNECTED