Logo
May 21 2024 04:28 PM

इस खबर को पड़ आप भी जान जाऐंगे की आपका पाटर्नर है कितना जिम्मेदार

Posted at: Sep 18 , 2017 by Dilersamachar 9734

दिलेर समाचार,वास्तव में जब कोई व्यक्ति परिपक्व और जिम्मेदार हो जाता है, तो लोग उसकी शादी के बारे में सोचते हैं और यह सही तरीका भी है। लेकिन शुक्ला जी की तरह भारत में ऐसे बहुत से लोग हैं, जो यह समझते हैं कि शादी के बाद व्यक्ति अधिक जिम्मेदार और परिपक्व बन जाता है। इस मुद्दे पर हमने मुंबई के साइकेट्रिस्ट डॉक्टर संगानायक मेश्राम से बातचीत की है। चलिए जानते हैं इस मुद्दे पर उनकी क्या राय है।
मेश्राम के अनुसार, यह धारणा है कि विवाह एक व्यक्ति को अधिक जिम्मेदार बनाता है, यह बिल्कुल गलत है और इसका कोई वैज्ञानिक तर्क नहीं है। लोग इन दिनों शादी करने के लिए अपना समय ले रहे हैं। देर से विवाह इन दिनों आम हो रहे हैं, जिसका मतलब है कि जब तक वे अधिक परिपक्व और जिम्मेदार न हो जाए, तब तक अधिक लोग प्रतीक्षा कर रहे हैं। इसके बावजूद तलाक दरों में वृद्धि हो रही है। परिपक्व लोगों में भी, वैवाहिक विफलताएं आम हो गई हैं।
सच्चाई यह है कि शादी आपको निश्चित रूप से बदलती है। जब आप किसी अन्य व्यक्ति के साथ अपने रहने की जगह साझा करते हैं, तो यह आपको अपनी और उसकी आवश्यकताओं के बारे में और अधिक सोचने पर मजबूर करता है। जाहिर है इससे आपकी सोच कुछ हद तक प्रभावित होती है। विवाह से उनके व्यवहार में समय के साथ परिवर्तन हो सकता है, लेकिन वे बहुत लंबे समय तक नहीं रह जाते हैं। तो ऐसा कहना कि शादी के बाद आप अपने काम को गंभीरता से लेना शुरू कर देंगे या अपनी लत को छोड़ देंगे, तो यह केवल एक भ्रम है।
डॉक्टर के अनुसार, शादी से पहले पार्टनर के अंतर्निहित मुद्दों को समझना महत्वपूर्ण है कि वह बेहतर तरीके से काम क्यों नहीं कर पा रहा या रही है? हो सकता है उस व्यक्ति को काम पर परेशानी का सामना करना पड़ रहा हो, जिससे उसकी चिंता बढ़ रही हो। इसलिए अपने जीवन में एक नए व्यक्ति का प्रवेश एक तनावपूर्ण हो सकता है। इससे दोनों ही चिड़चिड़े हो सकते हैं और रिश्ते में तनाव पैदा हो सकता है। एक अच्छी शादी वो है, जहां दोनों पार्टियां अपनी जिम्मेदारी के समान रूप से योगदान करती हैं।

ये भी पढ़े: कच्चा पपीता और काली मिर्च के जादुई असर से घटेगा अब आपका वज़न

 

Related Articles

Popular Posts

Photo Gallery

Images for fb1
fb1

STAY CONNECTED