Logo
September 30 2020 08:53 AM

क्यों होते हैं ये रोग?

Posted at: Jul 28 , 2020 by Dilersamachar 9488
आनंद कुमार अनंत बीमारी होती है ओर उसका उपचार होता है। बीमारी होने और उपचार होने के बीच के समय में रोगी को अनेक प्रकार की परेशानियों का सामना करना पड़ता है जिसमें शारीरिक एवं आर्थिक परेशानी दोनों ही शामिल होते हैं । रोग होने के कारणों को जान लिया जाये और हिफाजत बरती जाए तो संभवतः बीमार होने से बचा जा सकता है। कुछ गंभीर बीमारियों के होने के कारणों को यहां बताया जा रहा है। हैपेटाइटिसः- हेपेटाइटिस की यह बीमारी विषाणुओं द्वारा सिर्फ मनुष्य में ही फैलती है और वह भी मुख्यतः खून के माध्यम से ही। रक्तदान अर्थात खून लेते या देते समय, संक्रमित खून के उत्पाद के उपयोग से, अंग प्रत्यारोपण के दौरान सावधानी न बरतने से, संक्रमित इंजेक्शन (सुई) या ब्लेड या अन्य चीजों के कॉमन इस्तेमाल से, अनैतिक यौन सम्बन्धों के माध्यम से, मुख्यतः पुरूष होमोसेक्सुअल की स्थिति में, असुरक्षित या अधिक लोगों के साथ यौन संबंध रखने पर, विभिन्न शारीरिक स्रावों जैसे वीर्य, योनि स्राव (वेजाइनल) या घाव के स्राव से तथा हारिजेन्टल संक्रमण द्वारा स्केबीज, इम्पेटिगो, खरोंच या रगड़ द्वारा, स्नानघरों, सामूहिक तौलियों एवं बिस्तरों या कपड़ों के उपयोग करने से हेपेटाइटिस ‘बी‘ का संक्रमण हो जाता है। साइनोसाइटिसः- यह नाक संबंधी अर्थात् श्वसन संस्थान संबंधी एक आम बीमारी है जिसे असाध्य प्रतिश्याय के नाम से भी जाना जाता है। इस बीमारी में रोगी के नाक से निरन्तर पीले रंग का लसलसा कफ निकलता रहता है। इस बीमारी से पीडि़त अधिकांश रोगी अपने सिर में तीव्र वेदना की भी शिकायत करते हैं । यह भी एक संक्रमण जन्य बीमारी ही है। यद्यपि साइनोसाइटिस एक संक्रामक जीवाणु द्वारा प्रदत्त रोग है किन्तु इसकी दशा कई अन्य कारणों से भी जन्म ले सकती है जैसे नाक की झिल्ली पर बार-बार विषाणुओं का आक्रमण, बीड़ी, सिगरेट, चिलम आदि का नियमित सेवन, एलर्जी, विषैले धुएं वाले इलाकों में रहना, प्रदूषित हवा ग्रहण करना, ज्यादा ठंडी एवं सूखी हवा के सम्पर्क में आना और निरन्तर मानसिक तनाव भरी जिन्दगी जीना। इसके अलावा साइनोसाइटिस की शुरूआत सफाई के लिये इस्तेमाल किए जाने वाले रसायनों, भवन निर्माण सामग्री, फफूंदी मारने वाली दवाओं, खरपत नाशक दवाओं (पेस्टीसाइड्स), रंग रोगनों, (पेन्ट्स) और गलीचों में इस्तेमाल किये जाने वाले विलायकों, फोटो कॉपिंग में इस्तेमाल किये जाने वाले रसायनों, तम्बाकू, जर्दा रेडॉन, कीटाणु आदि के बार-बार हमलों से भी हो सकती है। हिस्टीरियाः- यह एक उलझनपूर्ण तथा विचित्रा लक्षणों वाला मानसिक रोग है जिसका अधिकतर शिकार महिलाएं हुआ करती हैं। हिस्टीरिया प्रायः मन की उस स्थिति में उत्पन्न होता है जब शरीर में सुपोषक आहार तत्वों के प्रभाव से जोश एवं कामनायें घुमड़ रही होती हैं लेकिन किसी कारणवश वे लालसायें भंग हो जाएं या अतृप्त रह जायें या जबरन दबा दी जायें और उसी समय झंझट की कोई बात भी सामने आ जाए। युवतियों में मासिक धर्म सम्बन्धी दोष, मासिक का न आना या रूक जाना, कष्ट के साथ मासिक का आना, विलुप्ता योनि, मैथुन, प्रदररोग, बन्घ्यत्व, आदि के कारण सामाजिक तिरस्कार से हीन भावना से ग्रस्त युवतियां के मन तथा मस्तिष्क पर आघात पहुंचता है। परिणामस्वरूप हिस्टीरिया का दौरा प्रारंभ हो जाता है। सेक्सी एवं अश्लील साहित्यों को पढ़ते रहना, प्रेम प्रसंगों में असफलता, पेट में कीडे़, कब्ज, आलस्य, काम भावनाओं का दमन, मानसिक आधात, शोक, चिन्ता, वियोग, पति का निष्ठुर स्वभाव, पति का अधिक दिनों तक बाहर रहना, अनमेल विवाह, परिवारी जनों से अपमानित होते रहना, तिरस्कार मिलना, बलात्कार, पति द्वारा बलपूर्वक संभोग, वैधव्य जीवन, पति का रोगी या दुर्बल होना, गर्भाशय की विकृति, दांपत्य प्रेम का अभाव आदि अनेक कारण ऐसे होते हैं जो स्त्रिायों में हिस्टीरिया रोग को उत्पन्न कर सकते हैं। ल्यूकोरियाः- इसे श्वेतप्रदर या योनि मार्ग से सफेद पानी आना भी कहा जाता है। यह स्त्रिायों की आम बीमारी है। यह रोग चौदह वर्ष की लड़की से लेकर बूढ़ी स्त्रिायों तक को हो सकता है। इस बीमारी का उत्पादक कारण यूं तो एक प्रकार के बैक्टीरिया होते हैं जो योनि के अन्दर गन्दगी में वृद्धि करके इसको पैदा करते हैं। इसके अतिरिक्त यौनांगों की अच्छी तरह सफाई न करना, शारीरिक कमजोरी, यौनांगों में सूजन, जोड़ों का दर्द तथा सूजन, जल्दी - जल्दी गर्भ ठहरना, मासिक समय पर न होना, अप्राकृतिक मैथुन, अत्यधिक सहवास, अश्लील विचार एवं साहित्य पढ़ना, तीव्र औषधियों को योनि में रखना, कब्ज, अजीर्ण, मधुमेह, सुजाक रोग, छोटी उम्र में गर्भ धारण करना, अत्यधिक गरिष्ठ भोजन करना, तेज मिर्च मसाले, खटाई का अधिक प्रयोग, शारीरिक श्रम न करना, आदि अनेक कारणों से ल्यूकोरिया की परेशान करने वाली बीमारी हो जाया करती है। स्वप्नदोषः- यह युवावस्था की एक बीमारी है जिसे स्वप्न प्रमेह, नाइट पॉल्यूशन, वेट ड्रीम्स, नाक्चरल एमिसन, नाइट डिस्चार्ज, नाइटफाल आदि नामों से जाना जाता है। यह प्रायः 15 से 25 वर्ष की उम्र वालों को अधिक होता है। स्वप्न में काल्पनिक बेड पार्टनर के साथ रति क्रिया में रत होने से वीर्य स्खलन हो जाता है। कब्ज, गुदाकृमि, मन्दाग्नि, अपचन, सुजाक, मधुमेह, पथरी, जलोदर, उपदंश, बवासीर, अजीर्ण, मानसिक तनाव, शोक, रात को अधिक जागना, दिन में देर तक सोना, शारीरिक श्रम न करना, अश्लील किताबों को पढ़ना, कामोत्तेजक दृश्य, फोटो आदि देखना, चाय, कॉफी, तले-भुने आहार, मांस, मदिरा, पान-मसाला, धूम्रपान, नशीली वस्तुओं के सेवन से स्वप्नदोष होने लगता है। किसी लड़की के साथ कामुक बातों को सोचते हुए सोने वाले युवकों में यह बीमारी अधिक देखने को मिलती है।

ये भी पढ़े: Covid-19: पश्चिम बंगाल में 31 अगस्त तक हफ्ते में 2 दिन लॉकडाउन


Tags:

Related Articles

Popular Posts

Photo Gallery

Images for fb1
fb1

STAY CONNECTED